प्राथमिक शिक्षकों के 2000 से ज्यादा पद रिक्त हैं । वहीं माध्यमिक स्तर पर प्रवक्ता व एलटी शिक्षकों के 4000 से ज्यादा पद खाली पड़े हुए हैं । 

 

देहरादून : प्रदेश में सरकारी प्राथमिक से लेकर माध्यमिक स्तर पर शिक्षकों के छह हजार से ज्यादा पद रिक्त हैं । वहीं प्रधानाध्यापक के 228 और प्रधानाचार्य के 724 पद रिक्त हैं । शिक्षा मंत्री डा धन सिंह रावत ने कहा कि इन सभी रिक्तियों को एक साल के भीतर भरा जाएगा । प्रदेश में सरकारी विद्यालयों की स्थिति संवारने के लिए जल्द अभियान छेड़ने की तैयारी है । विद्यालयों में भौतिक संसाधनों की कमी दूर करने के साथ शिक्षकों के रिक्त पद भी चुनौती बने हुए हैं । प्राथमिक शिक्षकों के 2000 से ज्यादा पद रिक्त हैं । वहीं माध्यमिक स्तर पर प्रवक्ता व एलटी शिक्षकों के 4000 से ज्यादा पद खाली पड़े हुए हैं । 31 मार्च को बीते सत्र की समाप्ति तक सेवानिवृत्ति के चलते शिक्षकों के रिक्त पदों की संख्या बढ़ी है । 

शिक्षा की गुणवत्ता के लिए शिक्षकों की कमी दूर होना आवश्यक है । शिक्षा मंत्री डा धन सिंह रावत ने कहा कि शिक्षकों के रिक्त पदों को भरने के लिए भर्ती प्रक्रिया और पदोन्नति को समयबद्ध किया जा रहा है । एक साल के भीतर यह प्रक्रिया पूरी कर दी जाएगी । प्रत्येक प्राथमिक विद्यालय में 15 बच्चों पर एक और माध्यमिक स्तर पर 30 विद्यार्थियों पर एक शिक्षक की तैनाती के फार्मूले पर अमल किया जाएगा । विभागीय अधिकारियों को प्रस्ताव बनाने के निर्देश दिए गए हैं । 

प्रकाशन तिथि: अप्रैल 10,2022