यूरोप, तुर्की, जार्जिया, ईरान, दुबई, अमीरात, यूएई, ओमान से पाकिस्तान होकर 01 मार्च 2020 को बाघा बार्डर होते हुए भारत पहुंचे। फ्रांसीसी परिवार भारत के जयपुर, जोधपुर, नई दिल्ली से होकर ताज देखने के लिए आगरा पहुंचा। लॉकडाउन के होने पर ताज के दर्शन नहीं हो सके।

उत्तर प्रदेश के महराजगंज जिले के पुरंदरपुर थाना क्षेत्र की ग्राम पंचायत कोल्हुआ उर्फ सिहोंरवा में 21 मार्च से रह रहा फ्रांसीसी परिवार उत्तराखंड भ्रमण के लिए जाना चाहता है। सोमवार को परिवार को सदस्यों ने डीएम से मिलकर ऐसी इच्छा व्यक्त की और आवेदन देकर अनुमति मांगी। 

पेशे से मोटर मैकेनिक पैट्रिस पल्लेरेज अपनी पत्नी वर्जिनिया, दो बेटियों ओफेली, लोला और बेटे टॉम के साथ सोमवार को डीएम से मिलने पहुंचे। भ्रमण संबंधी आवेदन को डीएम ने उच्चाधिकारियों को भेज दिया। वार्ता के दौरान जिलाधिकारी ने फ्रांसीसी परिवार के सभी सदस्यों से बातचीत कर उनसे भारत के अनुभव के बारे में पूछा। पैट्रिज पल्लेरेज ने बताया कि भारत भ्रमण कर बहुत अच्छा लगा। उम्मीद से ज्यादा यहां के लोग अच्छे हैं। रहने, खाने, पीने की कोई भी समस्या नहीं हुई। उन्होंने कई देशों का भ्रमण किया है पर भारत जैसा प्रेम कहीं नहीं मिला। पत्नी वर्जिनिया ने बताया कि करीब छह माह का वक्त कैसे कट गया, पता ही नहीं चला। यहां के लोग बहुत अच्छे हैं। बच्चे भी उनसे घुल मिल गए हैं।



फ्रांसीसी परिवार के लिए खाने, पीने का उचित प्रबन्ध किया गया है। लेकिन उत्तराखंड आने की बेताबी अब फ्रांसीसी परिवार से सही नही जा रही है। महराजगंज जिलाधिकारी ने बताया कि फ्रांसीसी परिवार के सदस्य उत्तराखंड भ्रमण पर जाना चाहते हैं। उनके द्वारा आवेदन दिया गया है। उच्चाधिकारियों के निर्देश के अनुसार कार्य किया जाएगा। इससे फ्रांसीसी परिवार को जल्द अवगत करा दिया जाएगा।