पुलिस महानिरीक्षक ने गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंस के माध्यम से गढ़वाल परिक्षेत्र के सभी जिलों के पुलिस अधिकारियों संग मासिक अपराध समीक्षा बैठक की।आइजी गढ़वाल अभिनव कुमार ने गढ़वाल परिक्षेत्र के सभी जिलों की पुलिस को गंभीर श्रेणी के अपराधों में आरोपितों की जल्द गिरफ्तारी के निर्देश दिए हैं। उन्होंने कहा कि हत्या, डकैती, लूट, दुष्कर्म, अपहरण, वाहन चोरी जैसे मामलों का शीघ्र निस्तारण हो और शत-प्रतिशत बरामदगी की जाए। पुलिस महानिरीक्षक ने कहा कि फरार अपराधियों पर इनाम घोषित कर उन्हें पकड़ने की कार्रवाई तेज की जाए। उन्होंने महिला उत्पीड़न संबंधी मामलों का प्राथमिकता के आधार पर स्पेशल टास्क फोर्स और तकनीकी विशेषज्ञों के माध्यम से पर्दाफाश करने के निर्देश भी दिए। 

कोरोना को लेकर आइजी ने कहा कि ड्यूटी के दौरान संक्रमित होने के बाद स्वस्थ होकर दोबारा ड्यूटी ज्वाइन करने वाले पुलिसकर्मियों को मनोबल बढ़ाने के लिए जनपद स्तर पर प्रशस्ति पत्र दिया जाए। बैठक में डीआइजी देहरादून अरुण मोहन जोशी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक हरिद्वार संेथिल अबूदेई कृष्णराज, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक पौड़ी पी. रेणुका देवी, वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक टिहरी योगेंद्र रावत, पुलिस अधीक्षक चमोली यशवंत सिंह, पुलिस अधीक्षक मंजूनाथ टीसी, पुलिस अधीक्षक रुद्रप्रयाग नवनीत भुल्लर व पुलिस उपाधीक्षक उत्तरकाशी दीवान सिंह मेहता शामिल हुए। 

अभिनव कुमार ने गढ़वाल क्षेत्र में अपराधों व अपराधियों पर लगाम लगाने के लिए कुछ निर्देशों पर विशेष ध्यान देने को कहा, जिसमे किसी भी अपराध में लिप्त अपराधी पर मुकदमा सिद्ध होने पर त्वरित कारवाई हो और उसकी उसी समय गिरफ्तारी की जाए। sc/st उत्पीड़न के लिए तुरन्त मुकदमा दर्ज हो, हेल्पलाइन पर एकत्रित शिकायतों का जल्द निस्तारण हो, मृत आश्रितों की निलंबन पेंशन में तेजी से कार्य हो और प्राकृतिक आपदाओं में बचाव कार्य के लिए बेहतर तालमेल के साथ कार्य हो जैसे मुद्दे रहे जो इस प्राकर है- 

1-साइबर अपराध में तत्काल मुकदमा दर्ज कर गिरफ्तारी व शत-प्रतिशत बरामदगी की जाए। ऐसे अपराधों से बचाव के लिए लोगों को जागरूक भी करें। 

2-एससी-एसटी उत्पीड़न में प्राथमिकता के आधार पर गिरफ्तारी करते हुए आरोप पत्र समय से न्यायालय में दाखिल करें। 


3-सीएम हेल्पलाइन के माध्यम से प्राप्त शिकायतों का प्राथमिकता के आधार पर निस्तारण करना सुनिश्चित करें। 


4-विभाग के सेवानिवृत्त कार्मिकों और मृतक आश्रितों के लंबित पेंशन प्रकरणों का तत्काल निस्तारण किया जाए। 


5-मानसून सीजन होने के कारण सभी जिला प्रभारी हर वक्त राहत और बचाव कार्य के लिए तैयार रहें और प्रशासन और एसडीआरएफ से समन्वय बनाएं।