सोमवार को कोरोना के 412 मामले समाने आये, जबकि सात लोगों ने दम तोड़ दिया ।

 

सोमवार को प्रदेश में 412 नए संक्रमित मरीज सामने आए हैं। इसके बाद अब प्रदेश में मरीजों की संख्या 15529 पहुंच गई है। स्वास्थ्य विभाग की ओर से जारी रिपोर्ट के अनुसार, आज सबसे ज्यादा 131 मरीज हरिद्वार और 124 मरीज ऊधमसिंह नगर में सामने आए हैं। वहीं, बागेश्वर में 01, चमोली में 03, चंपावत में 02, देहरादून में 27, नैनीताल में 66, पौड़ी में 10, रुद्रप्रयाग में 01, टिहरी में 25 और उत्तरकाशी में 22 संक्रमित मिले हैं। 

राहत की खबर ये है कि आज 432 मरीज ठीक होकर घर लौटे हैं। अब तक 10912 मरीज ठीक हो चुके हैं। जबकि प्रदेश में अभी भी 4355 एक्टिव केस हैं। अब तक 207 मरीजों की मौत हो चुकी है। प्रदेश में मरीजों की डबलिंग दर 26.3 दिन और रिकवरी रेट 70.27 फीसदी है। 

तीन कोविड-19 मरीजों ने एम्स ऋषिकेश में दम तोड़ा जबकि तीन अन्य की मौत हल्द्वानी के सुशीला तिवारी अस्पताल में हुई। एक अन्य की मृत्यु देहरादून के दून मेडिकल कॉलेज में हुई। अब तक प्रदेश में महामारी से मरने वालों की संख्या 207 हो चुकी है। टॉप पर चल रहे जिलों में आज भी मामले सर्वाधिक ही रहे । कोरोना वायरस से संक्रमित सर्वाधिक 131 ताजा मामले हरिद्वार जिले में मिले जबकि उधमसिंह नगर जिले में 124, नैनीताल में 66 और देहरादून में 27 मरीज सामने आए।

(BDO) Block Development Officer Vacancy Uttarakhand 2020
Uttarakhand Education Department- 658 Vacancies
अगस्तमुनि से रुद्रप्रयाग जा रही बोलेरो हादसे का शिकार, सड़क पर ही पलट गई गाड़ी ।
श्रीनगर गढ़वाल में यूटिलिटी चालक ने स्कूटी सवार को कुचल डाला, युवक की मौत ।
कर्णप्रयाग में बोलेरो वाहन दुर्घटनाग्रस्त, एक की मौत दूसरा गम्भीर रूप से घायल ।
पाकिस्तान की गोलाबारी में ऋषिकेश के राकेश डोभाल शहीद, परिवार का रो रोकर बुरा हाल ।
 वर्ग-4 (सहयोगी/गार्ड) के पदों पर भर्ती, 23 दिसम्बर अंतिम तारीख ।
PMGSY RECRUITMENT 2020 UTTARAKHAND
कॉलेज की छात्रा से किया शादी वादा फिर तीन साल बनाए शाररिक सम्बन्ध, अब शादी के लिए चाहिए पांच लाख दहेज ।
मैक्सजीप खाई में जा गिरी, दो लोगों की मौके पर मौत ।

यहां उत्तराखंड राज्य के बारे में विभन्न जानकारियां साँझा की जाती है। जिसमें नौकरी,अध्ययन,प्रमुख समाचार,पर्यटन, मन्दिर, पिछले वर्षों के परीक्षा प्रश्नपत्र, ऑनलाइन सहायता,पौराणिक कथाएं व रीति-रिवाज और गढ़वाली कविताएं इत्यादि सम्मिलित हैं। जो हर प्रकार से पाठकों के लिए उपयोगी है ।