मार्च से अगस्त तक भी कोरोना वायरल से राहत मिलती नजर नही आ रही है। उल्टा वायरस दिन-ब-दिन और हावी होता नजर आ रहा है। देश भर में शिक्षण संस्थान भी कोरोना के चलते बन्द पड़े हुए हैं। न विद्यालयों में परीक्षाएं हो पा रही हैं और न ही अगला सत्र शुरू हो पा रहा है। अब सरकार को लगने लगा है कि ऐसा ही चलता रहा तो शिक्षा व शिक्षण संस्थानों की कमर टूट जाएगी। इसलिए सरकार ने 01 सितम्बर से ऑनलाइन पढ़ाई करवाने का फैसला लिया है। 

प्रदेश के सरकारी डिग्री कॉलेजों और सहायताप्राप्त अशासकीय डिग्री कॉलेजों में आगामी 01 सितंबर से ऑनलाइन कक्षाएं तय समय सारिणी के अनुसार चलेंगी। छात्र-छात्रओं को साप्ताहिक असाइनमेंट दिए जाएंगे। उच्च शिक्षा प्रमुख सचिव आनंद बर्धन ने इस संबंध में उच्च शिक्षा निदेशक डॉ कुमकुम रौतेला को निर्देश दिए।

कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए अगले माह सितंबर में भी प्रदेश में डिग्री कॉलेज बंद रखे जाने के संकेत हैं। यह तय है कि आने वाले दिनों में कॉलेजों में ऑनलाइन पढ़ाई जारी रहेगी। इन कक्षाओं को अब नियोजित तरीके से संचालित किया जाएगा। ऑनलाइन कक्षाओं की अवधि और स्वरूप शिक्षक अपनी इच्छा से तय नहीं करेंगे। समय सारिणी का निर्धारण उच्च शिक्षा निदेशालय करेगा। उच्च शिक्षा प्रमुख सचिव आनंद बर्धन ने मंगलवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक में ऑनलाइन कक्षाओं के बारे में उक्त निर्देश दिए। प्रदेश में 105 सरकारी और 18 सहायताप्राप्त अशासकीय डिग्री कॉलेज हैं।

सरकार के निर्देश पर टीसीएस-ईऑन संस्था इन सभी कॉलेजों को ऑनलाइन लर्निग मैनेजमेंट सोल्यूशन (एलएमएस) उपलब्ध करा रही है। ऑनलाइन कक्षाओं का संचालन इसी एलएमएस प्लेटफॉर्म पर होगा। अभी तक सभी सरकारी और 14 सहायताप्राप्त डिग्री कॉलेज इससे जुड़ चुके हैं।