तीन दिन पूरे होने पर ऋषिकेश-गंगोत्री मार्ग पर आवाजाही ठप होने से जरूरी वस्तुओं की आपूर्ति न होने से जनता को दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। ऋषिकेश-गंगोत्री हाईवे पर मंगलवार को 38 घंटे बाद भी यातायात बहाल नहीं हो पाया है। क्षेत्र में हुई भारी बारिश के कारण पीटीसी मार्ग भी बंद हो गया, जिससे छोटे वाहनों को हिंडोलाखाल से नीर होते हुए नरेंद्रनगर पहुंचाया गया। सड़क बंद होने के कारण बड़े वाहनों को भद्रकाली और चंबा में रोके जाने से वाहनों की लंबी कतार लग गई, जिससे टिहरी में सब्जी सहित जरूरी वस्तुओं की आपूर्ति नहीं हो पाई।

सोमवार सुबह नरेंद्रनगर कुम्हारखेड़ा में चट्टान टूटने से राजमार्ग सात बजे बंद हो गया था। मलबा हटाने के लिए दोनों ओर जेसीबी और पोकलैंड लगा दी गई थी, लेकिन मिट्टी-बोल्डर इतना अधिक था कि राजमार्ग तीसरे दिन मंगलवार शाम छह बजे तक 38 घंटे बाद भी नहीं खुल पाया। बारिश के कारण पीटीसी मार्ग भी सोमवार शाम को बंद हो गया तो छोटे वाहनों को हिंडोलाखाल से नीर होते हुए नरेंद्रनगर मार्ग से भेजा गया।

दूसरी तरफ ऋषिकेश-बदरीनाथ मार्ग भी तोताघाटी और ब्यासी में कई दिनों से बंद होने के कारण वहां का ट्रैफिक ऋषिकेश-चंबा-गडोलिया से संचालित किया जा रहा है, लेकिन यह सड़क भी नरेंद्रनगर में बंद होने से भद्रकाली और चंबा से खाड़ी तक बड़े वाहनों की लंबी कतार लग गई, जिससे टिहरी में जरूरी सामान की किल्लत होने लगी है। आपदा प्रबंधन विभाग ने मंगलवार देर रात तक सड़क खुलने की बात कही थी।