शनिवार को 483 नए मामले सामने आए हैं, जिनमें सबसे अधिक 133 मामले हरिद्वार से हैं। इसके अलावा 97 नैनीताल, 81 ऊधमसिंह नगर, 82 देहरादून, 41 उत्तरकाशी, 19 अल्मोड़ा, 12 रुद्रप्रयाग, पांच पिथौरागढ़, चार चमोली, तीन-तीन टिहरी और पौड़ी गढ़वाल, दो बागेश्वर, एक चंपावत में सामने आया है। वहीं, 345 लोग ठीक हुए हैं, जबकि तीन की मौत हुई। 


एम्स ऋषिकेश में पिछले 24 घंटे में विभिन्न गंभीर रोगों से ग्रसित दो कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हुई है। वहीं, 26 लोगों में संक्रमण की पुष्टि हुई है। इनमें 16 स्थानीय लोग भी शामिल हैं। एम्स के जनसंपर्क अधिकारी हरीश मोहन थपलियाल ने बताया कि गुरुनानक कॉलोनी, ज्वालापुर हरिद्वार निवासी 58 वर्षीय हाईपरटेंशन से ग्रसित महिला बीते बुधवार को उल्टी और सांस लेने में तकलीफ की शिकायत पर एम्स आई थी। वहीं, गागलहेड़ी, सहारनपुर(यूपी) निवासी 38 वर्षीय शख्स को बीती 17 अगस्त को एम्स में भर्ती किया गया था। उन्हें पिछले कुछ दिनों से बुखार और गले में सूजन की शिकायत थी। उनका एचआइवी पॉजिटिव था। कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आने पर कोविड वॉर्ड रखा गया था, जहां उपचार के दौरान मरीज की शुक्रवार शाम मौत हो गई। 


प्रदेश में अब संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 14566 हो गई है। हालांकि, इनमें से 10021 पूरी तरह से ठीक हो चुके हैं। वर्तमान में 4296 मामले एक्टिव हैं, जबकि 195 की मौत हो चुकी हैं। इसके अलावा 54 मरीज राज्य से बाहर जा चुके हैं। उत्‍तराखंड में अब निजी चिकित्सालयों में भी कोरोना मरीजों का इलाज हो सकेगा। ऐसे निजी चिकित्सालयों का नेशनल अक्रिडिशन बोर्ड ऑफ हॉस्पिटल्स से पंजीकृत होना अनिवार्य होगा। अभी तक केवल सरकारी चिकित्सालयों में कोरोना से पीड़ित मरीज़ों का इलाज हो रहा है।