राज्य में रविवार को 345 मरीजों ने कोरोना से मात दी है। अभी तक प्रदेश में कुल 14566 लोग संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से अब तक 10021 (68.80 फीसद) लोग ठीक हो गए हैं। अलग-अलग अस्पतालों और कोविड केयर सेंटर में फिलवक्त 4286 मरीज भर्ती हैं। वहीं, 54 पॉजिटिव मरीज राज्य से बाहर जा चुके हैं। 


जिलों में आज इस प्रकार रही स्थिति:- 120 हरिद्वार, 94 देहरादून, 42 नैनीताल, 36 पिथौरागढ़, 17 चमोली, 14 चंपावत, 10 ऊधमसिंह नगर, 5 अल्मोड़ा, 4 पौड़ी और उत्तरकाशी , टिहरी और रुद्रप्रयाग में 1-1 मरीज सामने आए है। प्रदेश में कोरोना संक्रमित तीन और मरीजों की मौत हो गई है। एम्स ऋषिकेश में भर्ती दो मरीजों की मौत हुई है। इनमें ज्वालापुर, हरिद्वार निवासी 58 साल की महिला बुधवार को उल्टी व सांस लेने में तकलीफ के चलते अस्पताल में भर्ती हुई थी। उसे हाइपरटेंशन की भी समस्या थी। वहीं, गागलहेड़ी, सहारनपुर निवासी 38 वर्षीय व्यक्ति की भी मौत हुई है। उसे बुखार और गले में सूजन होने पर 17 अगस्त को भर्ती कराया गया था। हल्द्वानी स्थित डॉ. सुशीला तिवारी राजकीय चिकित्सालय में रुद्रपुर निवासी 58 वर्षीय महिला की मौत हुई है। 


कोरोना के लिहाज से अब रुड़की भी रफ्तार पकड़ने लगा है। मैदानी जिलों में अब तक देहरादून, हरिद्वार, नैनीताल और उधमसिंह नगर अव्वल नम्बर पर चल रहे हैं। बीते कुछ दिनों से अल्मोड़ा में भी कोरोना संक्रमितों की संख्या में इजाफा देखने को मिल रहा है। प्रदेश में रिकवरी दर 50% से अधिक है लेकिन बढ़ते मामले सरकार के लिए चिंता का विषय भी बने हुए हैं। रविवार को प्रदेश में 343 मामले उजागर हुए हैं। इस पूरे सप्ताह पर अगर एक नजर डालें तो एक भी दिन आंकड़ा 300 से नीचे नही उतरा है। जबकि एक दो दिन तो रेकॉर्ड तोड़ मामले भी दर्ज हुए हैं। वहीं राज्य में लगातार मौतों का आंकड़ा भी बढ़ता जा रहा है। जो डॉक्टरों और प्रशासन के लिए चिंता का विषय बना हुआ है। हालांकि डॉक्टरों का कहना है कि मृत्यु सिर्फ उन्ही लोगों की हुई है या हो रही है जिनको कोरोना लक्षणों के साथ अन्य बीमारी भी हैं।