HTH, हल्द्वानी  में इलाज के दौरान शनिवार रात एक व्यवसायी की संदिग्ध परिस्थितियों  में मृत्यु हो गई। परिजनों से बातचीत में पता चला है कि व्यवसायी टीबी रोग से पीड़ित चल रहा था। गौरतलब है की भारत में आज भी एक माह में एक हजार से डेढ़ हजार लोग टीबी की बीमारी से दम तोड़ देते हैं। लेकिन अमुक व्यवसायीक व्यक्ति ने घर पर कोई पदार्थ खाया था जिसके बाद वह बेहोश हो गया था। ऊधमसिंह नगर जिले के शिमला बहादुर ट्रांजिट कैप रुद्रपुर निवासी व्यवसायी सुमित गुप्ता (31), पुत्र विनय प्रकाश गुप्ता ने अपने घर कुछ संदिग्ध पदार्थ खाकर बेहोश हो गया। परिजनों ने उसे एसटीएच में भर्ती कराया लेकिन इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। मेडिकल चौकी पुलिस को परिजनों ने बताया कि उसने जहर खाया था। सुमित किराना की दुकान करता था। उसका एक बेटा भी है लेकिन टीबी रोग होने के कारण वह काफी तनावग्रस्त रहता था। व्यवसायी चार भाइयों में सबसे बड़ा था। पुुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराने के बाद उसे परिजनों को सुपुर्द कर दिया।
 
वहीं दूसरी घटना में हल्द्वानी में एक और युवती की संदिग्ध हालात में मौत हुई है। हेड़ागज्जर निवासी इंद्रपाल की पुत्री नीतू मौर्या (20) ने शनिवार को घर में कुछ संदिग्ध पदार्थ खा लिया। हालत बिगड़ने पर परिजनों ने उसे बेस अस्पताल में भर्ती कराया लेकिन इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।


पुलिस ने मामले में छानबीन की लेकिन किसी पर कोई शक नही है। संदिग्ध पदार्थ घटकने वाली युवती ने किसी प्रकार का सुसाइड नोट्स या कोई अन्य सूचना भी प्राप्त नही हुआ है। युवती ने ऐसा कदम क्यों उठाया इसकी जांच चल रही है।  कोतवाली पुुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराया। पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों को सौंपा दिया गया है। दोनों ही मौत हल्द्वानी में ही हुई है। शक की सुई प्रेम प्रसंग की तरफ भो इसारा कर ही है। लेकिन फिलहाल ऐसा कोई प्रमाण नही है कि इन दोनों का एक ददूसरे के साथ या किसी अन्य के साथ प्रेम प्रसंग था, जिसके पूरे न होने की चाह में इन्होंने घातक पदार्थ घटक लिया हो। लेकिन घटना का एक जैसा एंगल होने से सन्देह हो रहा है।