उत्तराखंड के पहाड़ों पर हो रही बरसात कई लोगों का काल बनकर आई है। बीते दिन ऐसी ही एक अप्रिय घटना उत्तराखंड के उत्तरकाशी जिले से सामने आई है।उत्तरकाशी जिले में बीते तीन दिनों से हो रही बारिश लोगों की परेशानी का कारण बन गई है। लगतार हो रही बारिश के चलते डुंडा प्रखंड के भड़कोट गांव में एक 13 वर्षीय किशोर जलकुर नदी में तेज प्रवाह में बह गया, जिससे उसकी घटना स्थल पर ही मौत हो गई।मौके पर पहुंची पुलिस एवं एसडीआरएफ की टीम ने रेस्क्यू अभियान चलाकर देर सांय तका उसका शव बरामद कर लिया है। प्राप्त जानकारी के अनुसार बुधवार देर सांय को भड़कोट निवासी नरेश पोखरियाल पुत्र चंदन सिंह पोखरियाल उम्र 13 वर्ष अपने घर की ओर जा रहा था। इसी दौरान जलकुर नदी उफान पर आ गई। नदी का जल स्तर बढ़ने पर वह तेज बहाव में बह गया। नदी में बहते देख स्थानीय लोगों ने इसकी सूचना पुलिस को दी। जिसके बाद मौके पर पहुंची एसडीआरएफ, एनडीआरफ ने राजस्व टीम धौंतरी के साथ सर्च अभियान कर एक घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद सटियाली धार के सामने नदी से उसका शव बरामद किया और पंचनामा भर शव परिजनों को सौंप दिया। 


पहाड़ो पर लगातार तीन दिन से बारिश हो रही है। इस साल हुई बारिश में अलग-अलग घटनाओं में अब तक दर्जनों लोग काल के मुँह में समा गए हैं। फिर वो चाहे बादल फटने की घटना हो, भूस्खलन से मकान दबने की घटना हो, आसमानी बिजली गिरने की घटना हो, सड़को पर हुई दुर्घनाएं हो या बढ़ते हुए नदी नालों का जल स्तर हो। वर्ष 2020 में बारिश उत्तराखंड के लिए काल शाबित हुई है। उत्तरकाशी में ही घटित दूसरी घटना में एक बुजुर्ग व्यक्ति गदेरे के पानी में बह गया और मौके पर ही मौत हो गई। 


वहीं दूसरी घटना में घनसाली तहसील के नैलचामी के मलड़ गांव के गधेरे में बहने से एक बुजुर्ग की मौत हो गई।जानकारी के अनुसार गुरुवार सुबह करीब नौ बजे मलड़ निवासी जट्टू लाल 62 अपने घर से डांगी जा रहा था। मलड़ गदेरे को पार करते समय उनका पैर फिसलने से वह गदेरे में बह गया। घटना की जानकारी के बाद ग्रामीणों ने उनकी खोजबीन कर उनके शव गधेरे से बरामद कर लिया गया। जसके बाद ग्रामीणों ने उनका दाह संस्कार किया। भाजपा नेता आनंद बिष्ट ने बताया कि हादसे की जानकारी प्रशासन को दी गई है। उन्होंने मृतक के परिवार को आर्थिक सहायता देने की मांग की है।