उत्तराखंड आईटीआई के शुल्क में बड़ा फेरबदल देखने को मिला है। प्रत्येक ट्रेड में दाखिला लेने वाले सामान्य वर्ग के छात्रों को 3900 रुपये वार्षिक फीस देनी होगी। पिछले वर्ष तक आईटीआई में छात्रों से 40 रुपये प्रतिमाह फीस ली जाती थी और 50 रुपये कॉशनमनी जमा होती थी। आवेदन के समय प्रमाणपत्रों की मूल प्रतियों के अलावा प्रमाणपत्रों की स्वप्रमाणित प्रति, दो फोटोग्राफ, आवंटनपत्र मूल रूप में लाने अनिवार्य होंगे।


इस विषय पर व्यावसायिक परीक्षा परिषद के उपनिदेशक जेएम नेगी की ओर से प्रधानाचार्यों को भेजे गए आदेश में शासनादेश के आधार पर अभ्यर्थियों से फीस जमा कराने को कहा गया है। इधर, कोरोना महामारी को देखते हुए निदेशालय ने छात्रों को प्रवेश के समय 2200 रुपये जमा करने की सुविधा प्रदान की है, जबकि आरक्षित वर्ग के छात्रों को 1200 रुपये फीस जमा करनी होगी। विभाग की ओर से यह भी निर्देशित किया गया है बाकी फीस स्थितियां सामान्य होने पर जमा की जा सकती है।


फीस बढ़ाने का प्रस्ताव पूर्व में पारित हो चुका है। संस्थानों में गुणवत्तापूर्ण प्रशिक्षण देने एवं प्रशिक्षणार्थियों को सुविधाएं दिए जाने के उद्देश्य से शासन स्तर पर फीस वृद्धि करने का फैसला किया गया। आने वाले समय में ली जाने वाली फीस का सम्पूर्ण अंश इस प्रकार से रखा गया है-



प्रवेश शुल्क -200

प्रशिक्षण शुल्क -1000

परिचय शुल्क-  50

प्रशिक्षार्थी वेलफेयर शुल्क-  150

भवन संबंधी मरम्मत कार्य शुल्क -400

जल तथा विद्युत शुल्क-   300

प्रशिक्षण और नियोजन शुल्क -400

पुस्तकालय शुल्क -100

कंप्यूटर शुल्कक- 1000

संस्थान स्तर पर शुल्क (काशनमनी)-  300



कुल - 3900