भारतीय राजनीति में जसवंत सिंह के योगदान को भुलाया नहीं जा सकता:- बंशीधर भगत (भाजपा अध्यक्ष)

 




पूर्व रक्षा मंत्री व बीजेपी के दिग्गज नेता जसवंत सिंह का आज सुबह 6 बजकर 55 मिनट पर हृदय गति रुकने की वजह से निधन हो गया है। 82 साल के जसवंत सिंह पिछले छह साल से कोमा में थे। उन्हें 25 जून को आर्मी अस्पताल भर्ती कराया गया था। उनके निधन पर सियासी जगत में शोक है। भाजपा प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत और नेता प्रतिपक्ष इंदिरा हृदयेश ने ट्वीट कर शोक व्यक्त किया है।



भगत ने श्रद्धाजंलि व्यक्त करते हुए लिखा है कि जसवन्त सिंह के निधन के समाचार से मन दुखी है। वे देश के एक सच्चे सेवक थे एवं अलग-अलग भूमिकाओं में उन्होंने मातृभूमि के उत्कर्ष के लिए महत्वपूर्ण योगदान दिया... परमपिता परमेश्वर उनकी आत्मा को अपने श्रीचरणों में स्थान दे। जबकि नेता प्रतिपक्ष ने ट्वीट कर लिखा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री, कुशल राजनेता जसवंत सिंह के निधन की खबर सुनकर मन शोक में डूब गया। भारतीय राजनीति में स्व. जसवंत सिंह जी के योगदान को कभी भुलाया नही जा सकता । मैं स्व. जसवंत सिंह जी को अश्रुपूरित श्रद्धाजंलि समर्पित करती हूँ ।



पूर्व रक्षा मंत्री के निधन पर राज्य के मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने भी शोक व्यक्त किया है। उन्होंने कहा है देश के लिए जशवंत सिंह जी का योगदान सदैव याद रखा जाएगा । ईश्वर दिवंगत आत्मा को शान्ति प्रदान करे ।

(BDO) Block Development Officer Vacancy Uttarakhand 2020
Uttarakhand Education Department- 658 Vacancies
अगस्तमुनि से रुद्रप्रयाग जा रही बोलेरो हादसे का शिकार, सड़क पर ही पलट गई गाड़ी ।
श्रीनगर गढ़वाल में यूटिलिटी चालक ने स्कूटी सवार को कुचल डाला, युवक की मौत ।
कर्णप्रयाग में बोलेरो वाहन दुर्घटनाग्रस्त, एक की मौत दूसरा गम्भीर रूप से घायल ।
PMGSY RECRUITMENT 2020 UTTARAKHAND
पाकिस्तान की गोलाबारी में ऋषिकेश के राकेश डोभाल शहीद, परिवार का रो रोकर बुरा हाल ।
 वर्ग-4 (सहयोगी/गार्ड) के पदों पर भर्ती, 23 दिसम्बर अंतिम तारीख ।
कॉलेज की छात्रा से किया शादी वादा फिर तीन साल बनाए शाररिक सम्बन्ध, अब शादी के लिए चाहिए पांच लाख दहेज ।
वन मंत्री हरक सिंह रावत के बुरे दिन, तीन माह की हुई सजा ।

यहां उत्तराखंड राज्य के बारे में विभन्न जानकारियां साँझा की जाती है। जिसमें नौकरी,अध्ययन,प्रमुख समाचार,पर्यटन, मन्दिर, पिछले वर्षों के परीक्षा प्रश्नपत्र, ऑनलाइन सहायता,पौराणिक कथाएं व रीति-रिवाज और गढ़वाली कविताएं इत्यादि सम्मिलित हैं। जो हर प्रकार से पाठकों के लिए उपयोगी है ।