पिथौरागढ़ में मुश्किलों में जीवन यापन कर रहे है ग्रामीण। कांटेगाव से सेरी, विनायक, भटियानी, मेल्टी मंदिर तक सड़क निर्माण कार्य शुरू करने की मांग को लेकर क्षेत्रवासियों ने जिला मुख्यालय पहुंचकर प्रदर्शन किया। सड़क के अभाव में ग्रामीणों को खासी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। यातायात की सुविधा नहीं होने से ग्रामीणों को आज भी मरीजों, गर्भवती महिलाओं, वृद्धों को डोली के सहारे लाना-ले जाना पड़ता है।


सोमवार को चिन्हित राज्य आंदोलनकारी समिति के अध्यक्ष जगत सिंह मेहता के नेतृत्व में जिलाधिकारी कार्यालय पहुंचे ग्रामीणों ने वर्ष 2006 में कांटेगांव से मेल्टी मंदिर तक 20 किमी सड़क को स्वीकृति मिली थी। जिसमें 10 किमी मार्ग को वित्तीय स्वीकृति भी मिल गई है। बावजूद इसके निर्माण कार्य अधर में लटका हुआ है। प्रदर्शन के बाद ग्रामीणों ने जिलाधिकारी को ज्ञापन सौंपकर अविलंब इस ओर उचित कार्रवाई करने की मांग की। इस मौके पर दिनेश सिंह, बब्बन सिंह आदि शामिल थे।


सड़क निर्माण कार्य शुरू करने की मांग को लेकर क्षेत्रवासियों ने जिला मुख्यालय पहुंचकर प्रदर्शन कर शीघ्र निर्माण कार्य शुरू नहीं करने पर उग्र आंदोलन की धमकी दी। वर्ष 2006 से 2020 तक सड़क निर्माण का कार्य लटका होने से ग्रामीणों में बहुत नाराजगी है। आए दिन ग्रामीणों को दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। बीमार व्यक्तियों को पगडण्डी के सहारे हस्पताल पहुंचाने के लिए मजबूर नजर आते हैं ग्रामीण ।