यौन उत्पीड़न प्रकरण में घिरे अल्मोड़ा जिले के द्वाराहाट सीट से भाजपा विधायक महेश नेगी की मुश्किलें बढ़ती दिख रही है। शनिवार को जांच टीम मसूरी के उस होटल पहुंची, जहां पीड़िता ने करीब दो साल पहले दुष्कर्म किए जाने की बात अपने बयान में कही थी। होटल के रजिस्टर को चेक करने से पता चला कि उस तारीख में विधायक ने होटल में कमरा बुक कराया था।




पुलिस की जांच में मसूरी स्थित होटल में महेश नेगी की आईडी से कमरा बुक हुआ पाया गया है । पुलिस को वहां से विधायक की आइडी मिल गई है। वहीं, दूसरी तरफ विशेष जांच प्रकोष्ठ की टीम शनिवार को दोबारा विधायक हॉस्टल पहुंची, लेकिन विधायक का आवास बंद मिला। इस पर पुलिस ने हॉस्टल के व्यवस्था अधिकारी से लिखित में सवाल किए और लिखित में ही उसका जवाब लेकर वापस आ गई। विधायक पर दुष्कर्म के लगे आरोपों की जांच में तेजी आने के साथ ही अब हर दिन पुलिस को नई जानकारी मिल रही है। अब तक विधायक की ओर से पीड़िता को ही कठघरे में खड़ा करने की जो कोशिश की जा रही थी, वहीं अब उनकी खुद की मुश्किलें बढ़ने लगी हैं।



महिला ने पुलिस और मजिस्ट्रेट के समक्ष दिए अपने बयान में देहरादून में स्थित रेसकोर्स विधायक हॉस्टल और मसूरी के एक होटल में दुष्कर्म किए जाने की बात बताई थी। विधायक हॉस्टल में दो दिन की दबिश के बाद भी पुलिस को कुछ विशेष हाथ नहीं लगा है, लेकिन शनिवार को पुलिस टीम मसूरी के उस होटल पहुंची, जहां पीड़िता ने एक दिसंबर 2018 को विधायक के द्वारा दुष्कर्म किये जाने की बात कही थी। पुलिस टीम के साथ मौजूद रहे पीड़िता के अधिवक्ता संजीव कौशिक ने बताया कि होटल का रिकॉर्ड चेक करने पर पाया गया कि विधायक ने यहां एक कमरा बुक कराया था। वहीं, यह भी बताया जा रहा है कि कमरा आवंटित होने के बाद उसे बदलवाया भी गया था। यह भी पता चला है कि जिस दिन विधायक इस होटल में आये थे, पीड़िता भी उनके साथ थी।




अब जांच के आधार पर बीजेपी विधायक महेश नेगी पर कभी भी शिकंजा कस सकता है। अब तक विधायक सारी बातों को अफवाह बता रहा था । लेकिन होटल के स्पष्टीकरण के बाद पुलिस कभी भी विधायक की गिरफ्तारी सम्बंधी करावाई कर सकती है। हालांकि चुनाव के मध्यनजर भाजपा विधायक को बचाने का पूरा प्रयास करेगी लेकिन अगर पीड़ित महिला के आरोप सही सिद्ध होते हैं तो विधायक जी का टिकट पार्टी से कटा ही समझों ।