उत्‍तराखंड में 24 घंटे में कोरोना से 18 मरीजों की हुई मौत, मरने वालों का आंकड़ा पहुंचा 530

 

उत्तराखंड में पिछले 23 दिन में 261 मरीजों की मौत हो चुकी है। प्रदेश में कोरोना से मरने वालों का आंकड़ा 530 पर पहुंच गया है। बुधवार को प्रदेश में रिकॉर्ड 18 मरीजों की मौत हुई है। उत्तराखंड में कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत का ग्राफ तेजी से बढ़ रहा है। लेकिन उत्तराखंड सरकार को राजस्व की चिंता लोगों की जान से ज्यादा परेशानी का कारण बनी हुई है। यही वजह है कि अब लोग उत्तराखंड में बिना कोरोना जांच के ही आ जा सकेंगे । और अब दो दिन रुकने वाली अनुमति भी हटा दी गई है, अब जितने मर्जी दिन उत्तराखंड में रुको ।

दून मेडिकल कॉलेज अस्पताल में हरिपुर नवादा निवासी 66 वर्षीय व्यक्ति की मौत हुई है। मरीज को बुधवार सुबह ही अस्पताल में भर्ती किया गया था। इसके अलावा एमडीडीए कॉलोनी निवासी 68 वर्षीय व्यक्ति और केदारपुरम निवासी 50 वर्षीय शख्स ने अस्पताल पहुंचते दम तोड़ दिया। एम्स ऋषिकेश में भी सात मरीजों की मौत हुई है। वहीं 59 वर्षीय और एक 65 वर्षीय व्यक्ति की श्री महंत इंदिरेश अस्पताल में मौत हुई है। उधर, हल्द्वानी स्थित डॉ. सुशीला तिवारी राजकीय चिकित्सालय में भी तीन मरीजों की मौत हो गई है। हल्द्वानी के बरेली रोड निवासी 72 वर्षीय महिला, काशीपुर निवासी 60 वर्षीय व्यक्ति और टनकपुर निवासी 78 वर्षीय शख्स शामिल हैं। श्रीनगर बेस अस्पताल में 56 वर्षीय, 30 वर्षीय और एक 76 वर्षीय महिला ने दम तोड़ दिया।

सरकारी व निजी लैब से 11084 सैंपलों की जांच रिपोर्ट प्राप्त हुई है। जिनमें 10015 की रिपोर्ट निगेटिव और 1069 की पॉजिटिव आई है। देहरादून में वायरस का प्रसार तेजी से बढ़ रहा है। यहां पर 318 और लोग कोरोना संक्रमित मिले हैं। ऊधमसिंह नगर में 237 लोग की जांच रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। वहीं हरिद्वार में 127 व नैनीताल में 119 नए मामले मिले हैं। चमोली में 58, उत्तरकाशी में 53, पौड़ी में 48, टिहरी में 31, रुद्रप्रयाग में 22, पिथौरागढ़ में 21, बागेश्वर में 21 और अल्मोड़ा व चंपावत में सात-सात व्यक्ति कोरोना संक्रमित मिले हैं। अब तक प्रदेश में 43720 लोग संक्रमित हो चुके हैं। इनमें 31123 लोग ठीक हो गए हैं। वर्तमान में 11866 एक्टिव मरीज हैं, जबकि 201 मरीज राज्य से बाहर चले गए हैं।

यहां उत्तराखंड राज्य के बारे में विभन्न जानकारियां साँझा की जाती है। जिसमें नौकरी,अध्ययन,प्रमुख समाचार,पर्यटन, मन्दिर, पिछले वर्षों के परीक्षा प्रश्नपत्र, ऑनलाइन सहायता,पौराणिक कथाएं व रीति-रिवाज और गढ़वाली कविताएं इत्यादि सम्मिलित हैं। जो हर प्रकार से पाठकों के लिए उपयोगी है ।