उत्तराखंड में प्रेम प्रसंग के मामले बढ़ते जा रहे है। लेकिन परवान चढ़ते से पहले ही "ये मेरी अधूरी कहानी" के साथ दुनिया से अलविदा हो जा रहे हैं या कर दिए जा रहे हैं। जी हां, अब लोगों को प्रेम के रिश्ते बिल्कुल रास नही आ रहे है। फिर चाहे वो अंतरजातीय हों या गैर । ऐसा ही एक मामला काशीपुर से आया है।

जानकारी के अनुसार, मोहल्ला अल्ली खां खालिक कॉलोनी निवासी नाजिया खान (18), का अपने घर के सामने रहने वाले राशिद सिद्द की (22) पुत्र कमरूद्दीन सिद्दीकी को दिल दे बैठी। राशिद बाजपुर रोड पर एक टायर के शोरूम पर काम करता था और नाजिया इंटर पास करने के बाद घर पर थी। प्यार में दोनों इतने डूब गये कि तय कर लिया की अब आगे का सफर साथ ही तय करना है। लेकिन इस सफर की शुरुआत दोनों के अंत से होगी, इसकी कल्पना उन्होंने नही की होगी।

जब लगा कि घर वाले उनके प्यार को नही समझेंगे तो अप्रैल में दोनों घर से भाग गए और निकाह कर लिया। गैर बिरादरी युवक से निकाह पर युवती के परिजन युवक से रंजिश रखने लगे थे। राशिद 15 दिन पहले नाजिया के साथ वापस काशीपुर लौटा और सिद्दीकी मैरिज हॉल में किराए पर रहने लगे।

लेकिन परिजनों की नाराजगी ने दोनों के लिए ऐसा चक्रव्यूह रचा कि दोनों कुछ समझ ही नही पाए। सोमवार रात करीब साढ़े आठ बजे दोनों प्रेमी डाक्टर के पास से दवाई लेकर लौट रहे थे कि, इसी दौरान मुजम्मिल ने बेटी को फोन करके नाराजगी खत्म करने की बात कहते हुए पति के साथ घर आने को कहा। राशिद पत्नी को लेकर ससुराल पहुंचता इससे पहले ही घर से करीब 50 कदम की दूरी पर दोनों को गोली मार दी गई। और प्रेम कहानी "अधूरी प्रेम कहानी" बनकर रह गई।