महेश नेगी प्रकरण में महिला ने सीबीआई से जांच कराने की मांग उठाई है। दूसरी ओर इस मामले में वायरल हुए आडियो को लेकर पुलिसकर्मी के बयान दर्ज किए गए हैं। नए बयानों में पुलिसकर्मी ने बयान से पहले 31 अगस्त को भी दून आने की बात दोहराई है। डीआईजी अरुण मोहन जोशी ने बताया कि नेहरू कालोनी थाने में विधायक महेश नेगी पर उन्हीं की इलाके की महिला ने दुष्कर्म का आरोप लगाकर मुकदमा दर्ज कराया है।

वहीं विधायक की पत्नी ने महिला समेत चार लोगों पर ब्लैकमेलिंग का मुकदमा दर्ज कराया है। पुलिस की विवेचना में हरिद्वार में तैनात सिपाही का नाम सामने आया था। यह वही सिपाही है जिसका महिला के साथ बातचीत का ऑडियो वायरल हुआ था। सिपाही ने आडियो में मारपीट कर और दबाव बनाकर बयान दिलाने का आरोप लगाया था। मंगलवार को उक्त सिपाही को बयान के लिए बुलाया गया।सीओ सदर अनुज कुमार ने बयान दर्ज किए और इसकी वीडियोग्राफी भी कराई गई। सिपाही ने 31 अगस्त को दून आने की बात दोहराई है और अन्य सवालों के जवाब पुलिस को दिए। मामले की जांच की जा रही है। उधर, महिला ने सचिव गृह नितेश झा को पत्र लिखकर मामले की सीबीआई जांच की मांग की है। महिला का आरोप है कि दून पुलिस दबाव में काम कर रही है। महिला ने पुलिस पर समझौते के लिए दबाव बनाने, डीएनए प्रकरण में सही तरीके से जांच नहीं करने आदि आरोप लगाए हैं।