टॉकीज छाया सिनेमा ऋषिकेश अब यादों में दफन, 1958 के दौर से 2020 तक रोचक सफर । आप भी पढ़े....

 



कुछ यादें ऐसी होती हैं जिनका अपना एक अलग ही इतिहास भी होता है । टॉकीज छाया सिनेमा हॉल ऋषिकेश उन्हीं यादों का एक इतिहास रहा है जो वर्ष 2020 में पूरी तरह से दम तोड़ गया। 1958 में शुरू हुआ ये सिनेमा हॉल पहले 1992 बंद हुआ। 37 साल तक इस सिनेमा हॉल ने तीर्थनगरी ही नहीं बल्कि आसपास के ग्रामीण क्षेत्रों और यहां तक की पहाड़ से आने वाले लोगों का भी भरपूर मनोरंजन किया।



1958 में रेलवे रोड पर स्थित छाया सिनेमा हॉल की स्थापना लाला रतन चंद गुप्ता ने की थी। 37 साल तक इस सिनेमा हॉल ने कई उतार-चढ़ाव देखे। तब ये शहर का अकेला सिनेमा हॉल था। इसके बाद देहरादून या हरिद्वार में ही सिनेमा हॉल थे। छाया पिक्चर हॉल में तीर्थनगरी ही नहीं पहाड़ों से भी लोग सिर्फ पिक्चर देखने ऋषिकेश पहुंचते थे। 55 एमएम के पर्दे वाले इस सिनेमा हॉल में बालकनी नहीं थी। लेकिन लाला रतन चंद गुप्ता ने हॉल को कुछ इस तरह से डिजाइन करवाया था कि हॉल के भीतर एसी में बैठने का अहसास होता था। तीर्थनगरी में 1975 तक छाया पिक्चर हॉल का एकछत्र राज रहा। इसके बाद देहरादून रोड पर शोभा पिक्चर हॉल खुल गया। जिसका नाम बाद में रामा पैलेस कर दिया गया। इसके अलावा कुछ वर्षों बाद यहां तीसरा सिनेमाघर भी वजूद में आया, जिसका नाम ऋषि टॉकिज था। जो कुछ सालों में बंद हो गया। छाया टॉकिज ने पूरे 37 वर्षों तक लोगों का भरपूर मंनोरंज किया। इसके बाद यह 1992 में बंद हो गया।




पिक्चर हॉल में लगी पहली पिक्चर गोपाल भैया उस समय दर्शकों को फ्री में दिखाई गई थी। तब यहां के बहुत से लोगों ने पहली बार सिनेमा हॉल में पिक्चर देखी थी। 90 के दशक में आई फिल्में प्यार झुकता नहीं, नमक हराम, वीराना, जल्लाद, कालिया जैसी फिल्मों को देखने के लिए लोग सिनेमा हॉल में दूर-दूर से उमंड़ पड़ते थे। तब 3 से 6, 6 से 9 और 9 से 12 का आखिरी शो चलता था। टिकट मात्र 25 पैसे से सवा रुपये तक होता था। स्पेशल शो का टिकट 3 रुपये का होता था।



वर्ष 1992 के दौर में नए नए सिनेमा घरों के खुल जाने से टॉकीज छाया सिनेमा ऋषिकेश के अस्तित्व पर संकट घराने लगा और इसे बन्द करना पड़ा। उस वक्त से लेकर आज तक टॉकीज छाया सिनेमा ऋषिकेश की इमारत वैसी की वैसी खड़ी थी जिसको देखकर लोग पुरानी यादें ताजा किया करते हैं। लेकिन अब इसके ध्वस्तीकरण का कार्य चल रहा है और अब टॉकीज छाया सिनेमा के नाम से कोई इमारत नही दिखेगी ।

(BDO) Block Development Officer Vacancy Uttarakhand 2020
Uttarakhand Education Department- 658 Vacancies
अगस्तमुनि से रुद्रप्रयाग जा रही बोलेरो हादसे का शिकार, सड़क पर ही पलट गई गाड़ी ।
श्रीनगर गढ़वाल में यूटिलिटी चालक ने स्कूटी सवार को कुचल डाला, युवक की मौत ।
कर्णप्रयाग में बोलेरो वाहन दुर्घटनाग्रस्त, एक की मौत दूसरा गम्भीर रूप से घायल ।
कौड़ियाला-तोताघाटी में 15 मीटर सड़क ढही, मरम्मत का कार्य जारी ।
PMGSY RECRUITMENT 2020 UTTARAKHAND
पाकिस्तान की गोलाबारी में ऋषिकेश के राकेश डोभाल शहीद, परिवार का रो रोकर बुरा हाल ।
कॉलेज की छात्रा से किया शादी वादा फिर तीन साल बनाए शाररिक सम्बन्ध, अब शादी के लिए चाहिए पांच लाख दहेज ।
 वर्ग-4 (सहयोगी/गार्ड) के पदों पर भर्ती, 23 दिसम्बर अंतिम तारीख ।

यहां उत्तराखंड राज्य के बारे में विभन्न जानकारियां साँझा की जाती है। जिसमें नौकरी,अध्ययन,प्रमुख समाचार,पर्यटन, मन्दिर, पिछले वर्षों के परीक्षा प्रश्नपत्र, ऑनलाइन सहायता,पौराणिक कथाएं व रीति-रिवाज और गढ़वाली कविताएं इत्यादि सम्मिलित हैं। जो हर प्रकार से पाठकों के लिए उपयोगी है ।