खंडहर हो चुके रूमा गांव की तस्वीर है, कभी 60 से अधिक परिवारों का था बसेरा ।

 


अल्मोड़ा जिले के रानीखेत तहसील व ताड़ीखेत ब्लॉक के सुदूर रूमा गांव की। यहां 60 के दशक में आई पलायन रूपी आपदा ने इसे फिर आबाद न होने दिया। किसी दौर में यहां 50 परिवार (ब्राह्मण सती) व 12 शिल्पकारों का कुनबा रहता था। लगभग 20 मीटर लंबा ही आंगन। जो कुमाऊं की पटाल संस्कृति के जिंदा होने का सबूत दे रही। लंबे चौड़े आंगन के बीच खोली (बुजुर्गों के बैठने का विशिष्ट स्थान)। ज्यादातर दोमंजिले मकान। करीने से तैयार किए गए सीढ़ीदार खेत। सब कुछ किसी दौर में खुशहाल व समृद्ध कृषि प्रधान गांव की गवाही भी दे रहे। आज पूर्ण रूप से खण्डरह हो चुकी इस बिरान जगह का भी अपना एक अलग ही इतिहास है।


यहां के लोग रोजगार व बच्चों की पढ़ाई के लिए बाहर निकले और वहीं के होकर रह गए। 1997-98 में शेष दो परिवार भी गांव छोड़ गए। अबकी वैश्विक महासंकट में जहां जिले में 50 हजार प्रवासी वापस अपने गांव लौटे, मगर रूमा गांव का रुख किसी ने नहीं किया। पलायन रोकने को गठित आयोग ने पर्वतीय जिलों के 7950 ग्राम पंचायतों के 16500 गांव व तोकों का सर्वे कर बीते मई में जो रिपोर्ट दी, उसके मुताबिक एक दशक में 3946 ग्राम पंचायतों से 118981 ग्रामीणों ने अपने अपने गांव छोड़ दिए। 2.80 लाख घरों पर ताले पड़ चुके हैं। पौड़ी जिले में राज्य गठन के बाद सर्वाधिक 370 व अल्मोड़ा में 256 गांव पलायन से वीरान हो चले हैं। पूर्व सीएम हरीश रावत ने 1100 गांवों को भुतहा घोषित कर रिमाइग्रेशन की योजना को कैबिनेट में मंजूरी दिलाई पर अमल न हो सका।



(BDO) Block Development Officer Vacancy Uttarakhand 2020
Uttarakhand Education Department- 658 Vacancies
अगस्तमुनि से रुद्रप्रयाग जा रही बोलेरो हादसे का शिकार, सड़क पर ही पलट गई गाड़ी ।
श्रीनगर गढ़वाल में यूटिलिटी चालक ने स्कूटी सवार को कुचल डाला, युवक की मौत ।
कर्णप्रयाग में बोलेरो वाहन दुर्घटनाग्रस्त, एक की मौत दूसरा गम्भीर रूप से घायल ।
कौड़ियाला-तोताघाटी में 15 मीटर सड़क ढही, मरम्मत का कार्य जारी ।
PMGSY RECRUITMENT 2020 UTTARAKHAND
पाकिस्तान की गोलाबारी में ऋषिकेश के राकेश डोभाल शहीद, परिवार का रो रोकर बुरा हाल ।
कॉलेज की छात्रा से किया शादी वादा फिर तीन साल बनाए शाररिक सम्बन्ध, अब शादी के लिए चाहिए पांच लाख दहेज ।
 वर्ग-4 (सहयोगी/गार्ड) के पदों पर भर्ती, 23 दिसम्बर अंतिम तारीख ।

यहां उत्तराखंड राज्य के बारे में विभन्न जानकारियां साँझा की जाती है। जिसमें नौकरी,अध्ययन,प्रमुख समाचार,पर्यटन, मन्दिर, पिछले वर्षों के परीक्षा प्रश्नपत्र, ऑनलाइन सहायता,पौराणिक कथाएं व रीति-रिवाज और गढ़वाली कविताएं इत्यादि सम्मिलित हैं। जो हर प्रकार से पाठकों के लिए उपयोगी है ।