स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों में चार हजार से अधिक छात्र-छात्राओं ने आवेदन किए हैं। विवि के विभिन्न कोर्सों में निर्धारित करीब आठ सौ सीटों है। इस लिहाज से एक सीट के लिए पांच छात्र-छात्राओं की दावेदारी बन रही है। यह अलग बात है कि आवेदन करने वाले कितने छात्र दाखिला लेने आते हैं। कई छात्रों का इस बीच दूसरे संस्थानों में दाखिला हो जाता है, जिससे पहली या दूसरी कटऑफ में स्थान बनने वाले छात्र की रिक्त सीट पर अंत में स्पॉट काउंसिलिंग करवाई जाती है। इस बार कोरोना संक्रमण के कारण छात्रों ने उच्च शिक्षा की पढ़ाई के लिए दिल्ली और अन्य शहरों की ओर रुख नहीं किया।


नतीजा यह रहा कि दून विवि में दाखिले के लिए अभी तक 4,104 आवेदन पत्र विवि को ऑनलाइन प्राप्त हो चुके हैं। विवि ने स्नातकोत्तर में दाखिले के लिए आवेदन की तिथि 15 अक्टूबर तक बढ़ा दी है, जिससे स्नातक अंतिम सेमेस्टर की परीक्षा दे चुके छात्र भी स्नातकोत्तर में आवेदन कर सकें। विवि में आवेदन करने वाले छात्रों को इस बार मेरिट आधार पर दाखिला मिलेगा। जिन छात्र-छात्राओं की 12वीं बोर्ड परीक्षा में बेहतर अंक हैं, उन्हें दाखिला मिलने में दिक्कतें नहीं होगी। विवि में स्नातक व स्नातकोत्तर में करीब 870 सीटें निर्धारित हैं। सबसे अधिक बीए आनर्स/एमए इंटीग्रेटेड मीडिया एंड कम्युनिकेशन स्टडीज में 50 सीटें निर्धारित हैं। इसके अलावा एमए स्पेनिश, एमए जर्मन, एमए चाइनीज, एमए जैपनीज, एमए फ्रेंच, एमए इंग्लिश शामिल हैं। विवि के प्रभारी कुलसचिव डॉ. एमएस मंद्रवाल ने पुष्टि कर कहा कि बुधवार तक चार हजार से अधिक आवेदन प्राप्त हुए हैं।