सहकारिता राज्य मंत्री धन सिंह रावत (स्वतंत्र प्रभार) गुरुवार को धारचूला पहुंचे। उन्होंने जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों के साथ बैठक की और प्रदेश में स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए चलाई जा रही योजनाओं की जानकारी दी। उन्होंने बलुवाकोट में दो करोड़ की लागत से बने महाविद्यालय भवन और नारायण नगर में बहुउद्देश्यीय भवन का लोकार्पण किया। धारचूला पहुंचे मंत्री धन सिंह रावत को परंपरागत ढंग से स्वागत किया।


जनप्रतिनिधियों और अधिकारियों के साथ बैठक में उन्होंने कहा कि कोविड-19 के चलते वापस लौटे लोगों को स्वरोजगार से जोड़ने के लिए सरकार 1000 करोड़ की धनराशि खर्च करेगी। 150 स्वरोजगार योजनाएं प्रदेश में चलाई जा रही है। आपदा प्रभावित गांवों के पुनर्वास की योजनाएं तैयार हैं। राज्य के प्रत्येक गांव को विकास के लिए वित्त आयोग से पांच से दस लाख की धनराशि दी जा रही है। सरकार ने बंदोबस्त की जमीन की रजिस्ट्री में अब महिलाओं का भी नाम जोड़े जाने का निर्णय लिया है।


बैठक में ब्लाक प्रमुख धन सिंह धामी, नगर पालिकाध्यक्ष राजेश्वरी देवी, भाजपा जिलाध्यक्ष वीरेंद्र सिंह वल्दिया, एसडीएम एके शुक्ला, अशोक नबियाल आदि मौजूद रहे। बलुवाकोट पहुंचे उच्च शिक्षा मंत्री ने महाविद्यालय में दो करोड़ की लागत से नवनिर्मित भवन का लोकार्पण किया। महाविद्यालय में स्नातक स्तर पर भौतिक विज्ञान और रसायन विज्ञान विषय खोले जाने सहित हरसंभव सुविधा दिए जाने का भरोसा उन्होंने दिया। उन्होंने बलुवाकोट महाविद्यालय से लगी रेडक्रास की 52 नाली भूमि महाविद्यालय को हस्तांतरित करने के लिए एसडीएम एके शुक्ला को निर्देशित किया।