घर से टैक्सी स्टैंड के लिए निकले टैक्सी चालक का शव दूसरे दिन शुक्रवार की सुबह तिकोनिया के पास रेलवे पटरी के बीच पड़ा मिला। उसकी गर्दन और हाथ में चोट के निशाना हैं। टैक्सी चालक का शव रेलवे पटरी के बीच मिलने की सूचना आरपीएल निरीक्षक रणदीप कुमार को सबसे पहले मिली। उन्होंने मौके का मुआयना कर कोतवाली पुुलिस को अवगत कराया। इस पर पुलिस ने जांच शुरू की।


बैलेजली लॉज निवासी गौरव चौहान ने बताया कि उसके पिता जगदीश चौहान (43) बृहस्पतिवार सुबह घर से टैक्सी स्टैंड जाने के लिए निकले थे। देर रात तक वापस घर नहीं लौटने पर परिवार के लोगों ने छानबीन की लेकिन पता नहीं चल सका। सुबह पुलिस से सूचना मिली कि उनका शव रेलवे पटरी पर मिला है। परिवार के लोग मौके पर पहुंचे तो उनका शव पटरियों के बीच पड़ा था। हाथ, गर्दन और सिर में चोट लगी थी। घिसटने के निशान भी पड़े थे। देहरादून जाने वाली ट्रेन से जगदीश करीब 500 मीटर तक घिसटा है। पुलिस को आशंका है कि वह पटरी पर नशे में सो गया होगा। जगदीश के दो पुत्र हैं। पुलिस ने पोस्टमार्टम के बाद शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया। कोतवाल संजय कुमार का कहना है कि पुलिस घटना के अन्य कारणों की भी छानबीन कर रही है।