हल्द्वानी में मां और छोटी बहन के साथ घास काटने गई किशोरी पर झाड़ियों में छिपे तेंदुए ने अचानक हमला बोल लिया। तेंदुआ किशोरी को घसीटकर ले जाने लगा तो पेड़ पर चढ़ी मां ने कूद लगा दी। मां-बेटी ने पत्थर मारकर किशोरी को तेंदुए के चंगुल से छुड़ाया। इसके बाद घायल किशोर को पीठ में लादकर सड़क तक लाए। वन विभाग की टीम ने अपने वाहन से किशोरी को बेस अस्पताल में भर्ती कराया है। जहां उसका इलाज चल रहा है। ग्रामसभा गुजरौड़ा के गांव नवाड़ सैलानी निवासी सरस्वती अपनी बड़ी बेटी पिंकी (15) और छोटी बेटी सुनीता को लेकर अन्य गांव वालों के साथ सोमवार को घास लेने जंगल गई थी। सभी ग्रामीण घास लेने के लिए अलग-अलग चले गए। जंगल में पत्ते काटने के लिए सरस्वती पेड़ पर चढ़ गई। पिंकी और उसकी छोटी बहन नीचे पत्ते समेट रहीं थीं।। इसी दौरान झाड़ियों में छिपे तेंदुए ने पिंकी पर पीछे से हमला बोल दिया।



सरस्वती ने बताया कि जब वह अपनी बेटी को पीठ पर लादकर लाने लगी तो तेंदुए ने दोबारा हमला किया। इस पर उन्होंने एक बार फिर तेंदुए पर पत्थरों से हमला कर उसे वहां से भगा दिया। सरस्वती ने बताया कि उनके पति लुधियाना में एक प्राइवेट कंपनी में काम करते हैं। उनकी बेंटी पिंकी राजकीय इंटर कॉलेज लामाचौड़ में कक्षा 10 की छात्रा है। ग्राम सभा गुजरौड़ा की प्रधान रितु जोशी ने कहा कि यदि वन विभाग तेंदुए को पकड़ने के लिए पिंजरे की संख्या नहीं बढ़ाता है तो गांव वाले भूख हड़ताल करेंगे। दो माह में अब तक तेंदुए ने यह पांचवां हमला किया है। इससे पूर्व भी तेंदुआ गांव की भगवती देवी, तुलसी देवी, अमर सिंह समेत एक अन्य पर हमला कर चुका है।