उत्तराखंड सरकार ने दो नवंबर से स्कूल खोलने के साथ साथ इस शैक्षिक सत्र 2020-21 की बोर्ड परीक्षाओं के लिए भी तैयारी शुरू कर दी है। शिक्षा सचिव आर.मीनाक्षीसुंदरम ने बोर्ड परीक्षा के लिए शिक्षा निदेशक को परीक्षा केंद्र के चयन और वहां व्यवस्था का खाका तैयार करने के आदेश दिए हैं। सूत्रों के अनुसार, कोरोना संक्रमण को देखते हुए वर्ष 2021 में होने वाली बोर्ड परीक्षाओं में परीक्षा केंद्रों की संख्या दोगुनी की जा सकती है। साथ ही सुरक्षा की दृष्टि से इस बार बोर्ड परीक्षा में ज्यादा शिक्षकों को ड्यूटी पर लगाया जा सकता है।


शिक्षा सचिव के आदेश के बाद एडी महानिदेशालय वंदना गब्र्याल ने भी दोनों मंडल के अपर निदेशक-माध्यमिक और सभी सीईओ को परीक्षा केंद्र की चयन प्रक्रिया शुरू करने के निर्देश दे दिए। मालूम हो कि कोरोना संक्रमण की वजह से स्कूल इस साल मार्च से ही बंद पड़े हैं। अब केंद्र सरकार की अनुमति मिलने के बाद राज्य सरकार दो नवंबर से स्कूल खोलने जा रही है। प्रथम चरण में केवल बोर्ड परीक्षा वाली कक्षा 10 और 12 में ही पढ़ाई शुरू करने को मंजूरी दी गई है। स्कूल खोलने के साथ शिक्षा विभाग के सामने सबसे बड़ी चुनौती बोर्ड परीक्षा कराने की है। नवंबर में स्कूल खुलने के बाद बोर्ड परीक्षा के लिए ज्यादा समय नहीं होगा। सामान्यत: मार्च-अप्रैल के दौरान परीक्षाएं करा ली जाती हैं।

जिलास्तर पर डीएम की अध्यक्षता में छह सदस्यीय टीम परीक्षा केंद्रों का चयन करेगी। इसमें एक ग्रामीण क्षेत्र के प्रधानाचार्य और संबंधित तहसील के एसडीएम भी रहेंगे। जिलास्तर पर चुने गए परीक्षा केंद्रों में किसी भी प्रकार के संशोधन का अधिकार राज्य स्तरीय समिति का होगा। 16 सदस्यीय राज्य स्तरीय समिति शिक्षा निदेशक की अध्यक्षता में बनाई गई है। विद्यालयी शिक्षा परिषद की सचिव इसकी सदस्य सचिव होंगी।