कोटद्वार कोतवाली में रथुवाढाब-ढौंटियाल के मध्य खाई में गिरी इनोवा कार।

 



पौड़ी जिले के रिखणीखाल ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम रथुवाढाब में आयोजित विवाह समारोह में शिरकत करने जा रहे व्यक्तियों की कार खाई में गिर गई। इस दुर्घटना में दो व्यक्तियों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि तीन अन्य गंभीर रूप से घायल हैं। घायलों को बेस चिकित्सालय कोटद्वार में लाकर भर्ती किया गया है। सूत्रों के अनुसार दुर्घटना हुई कार में सवार लोग फरीदाबाद से शादी में शरीक होने आए थे ।



गुरुवार रात कोटद्वार कोतवाली में रथुवाढाब-ढौंटियाल के मध्य इनोवा कार के दुर्घटनाग्रस्त होने की सूचना पर दुगड्डा पुलिस चौकी प्रभारी ओमप्रकाश के नेतृत्व में पुलिस टीम मौके पर पहुंची। दुगड्डा से करीब 40 किलोमीटर दूर दुर्घटना स्थल पर पहुंची। पुलिस ने करीब 15 मीटर गहरे खड्ड में गिरी इनोवा कार में फंसे घायलों को बाहर निकालने का कार्य शुरू किया। दुर्घटना में फरीदाबाद (हरियाणा) निवासी तेजवीर पुत्र सुरेंद्र गुसाईं और राजेंद्र सिंह रावत पुत्र मनवर सिंह रावत की मौके पर ही कार के नीचे दबने से मौत हो गई। बताया कि दुर्घटना में फरीदाबाद (हरियाणा) निवासी धनवीर पुत्र प्रेम सिंह गुसाईं, मनोज पुत्र सुभाष व सुनील पुत्र संतराम गंभीर रूप से घायल हुए हैं। घायलों को आकस्मिक चिकित्सा वाहन से कोटद्वार के बेस चिकित्सालय में लाकर भर्ती किया गया है। घायलों ने बताया कि ढौंटियाल के समीप एक मोड़ पर गाड़ी का स्टेरिंग पूरी तरह से नहीं कट पाया और गाड़ी खड्ड में जा गिरी।

(BDO) Block Development Officer Vacancy Uttarakhand 2020
Uttarakhand Education Department- 658 Vacancies
अगस्तमुनि से रुद्रप्रयाग जा रही बोलेरो हादसे का शिकार, सड़क पर ही पलट गई गाड़ी ।
कर्णप्रयाग में बोलेरो वाहन दुर्घटनाग्रस्त, एक की मौत दूसरा गम्भीर रूप से घायल ।
 वर्ग-4 (सहयोगी/गार्ड) के पदों पर भर्ती, 23 दिसम्बर अंतिम तारीख ।
पाकिस्तान की गोलाबारी में ऋषिकेश के राकेश डोभाल शहीद, परिवार का रो रोकर बुरा हाल ।
मैक्सजीप खाई में जा गिरी, दो लोगों की मौके पर मौत ।
कॉलेज की छात्रा से किया शादी वादा फिर तीन साल बनाए शाररिक सम्बन्ध, अब शादी के लिए चाहिए पांच लाख दहेज ।

यहां उत्तराखंड राज्य के बारे में विभन्न जानकारियां साँझा की जाती है। जिसमें नौकरी,अध्ययन,प्रमुख समाचार,पर्यटन, मन्दिर, पिछले वर्षों के परीक्षा प्रश्नपत्र, ऑनलाइन सहायता,पौराणिक कथाएं व रीति-रिवाज और गढ़वाली कविताएं इत्यादि सम्मिलित हैं। जो हर प्रकार से पाठकों के लिए उपयोगी है ।