राज्य मुख्य सचिव की अध्यक्षता में हुई बैठक में महाविद्यालयों के खुलने पर चर्चा की गई । बैठक में महाविद्यालयों को नवम्बर में खोलने को लेकर विचारविमर्श किया गया तथा आगामी कैबिनेट बैठक में इस बाबत प्रस्ताव रखने पर सहमति बनी । बैठक में बताया गया कि कॉलेज खुलने पर शुरुआत में पहले सेमेस्टर के छात्र-छात्राओं को बुलाया जाएगा। जबकि सर्दियों की छुट्टियों के बाद अंतिम सेमेस्टर के छात्र-छात्राओं के लिए भी कॉलेज खोले जाएंगे।

बैठक में माध्यमिक स्कूलों को लेकर जारी एसओपी का भी संज्ञान लिया गया। बैठक में बताया गया कि कॉलेज खोले जाने के संबंध में प्रस्ताव तैयार कर इसे आगामी कैबिनेट की बैठक में रखा जाएगा। बैठक में प्रमुख सचिव उच्च शिक्षा डॉ. आनंद वर्धन, माध्यमिक शिक्षा सचिव आर मीनाक्षी सुंदरम, सचिव विनोद रतूड़ी, पंकज पांडे, उच्च शिक्षा निदेशक डॉ कुमकुम रौतेला आदि मौजूद रहे।

वहीं दूसरी तरफ 02 नवम्बर से खोले जा रहे 10वीं व 12 वीं कक्षाओं को लेकर सरकार की कोई तैयारी नही है । उत्तरांचल प्रधानाचार्य परिषद के प्रदेश अध्यक्ष प्रकाश चंद्र सुयाल व महामंत्री अवधेश कुमार कौशिक ने कहा कि दो नवंबर से दसवीं और बारहवीं के छात्र छात्राओं के लिए स्कूल खुलने जा रहे हैं। लेकिन प्रदेश के अशासकीय स्कूलों को सैनिटाइजेशन के लिए सरकार की ओर से कोई बजट नहीं मिला। इससे इन स्कूलों के प्रिंसिपल एवं शिक्षक निराशा है। उन्होंने कहा कि इन स्कूलों के शिक्षकों और कर्मचारियों का पिछले दो महीने से वेतन भी रुका हुआ है।