ताजा मामला हरिद्वार जिले से सामने आया है जहाँ एक दंपती किराये के मकान में रहते हैं। दंपती की सात साल की बेटी है। दंपती को काम के सिलसिले में अक्सर घर से बाहर जाना होता है। बाहर जाते वक्त नाबालिग बेटी को भरोसे पर मकान मालिक के पास छोड़ देते थे, ताकि उसकी देखभाल हो सके।


दम्पति ने पुलिस को तहरीर में कहा है कि मासूम पिछले कुछ दिनों से काफी डरी और सहमी रहने लगी। 20 नवंबर को उसकी मां ने डरने की वजह पूछी। मासूम ने मकान मालिक की हरकतें बताई तो उनके पैरों तले जमीन खिसक गई। मासूम ने अपनी माँ से बताया कि जब वो लोग घर पर नहीं होते हैं तो मकान मालिक उसके कमरे में आता है। उसके साथ गंदी हरकतें करता है। शिकायत करने पर माता-पिता को मारने की धमकी भी देता है।


पुलिस ने मासूम के माता-पिता की तहरीर पर मकान मालिक के खिलाफ दुष्कर्म और पॉस्को एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है। मासूम बच्ची का मेडिकल कराया जा रहा है। आरोपी मकान मालिक फरार है।