उत्तराखंड राज्य बनने के लगभग 18 -19 वर्ष बाद गैरसैंण को राज्य की ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित किया गया । हालांकि सरकार की किसी भी वेबसाइट पर गैरसैंण के राजधानी होने का उल्लेख नही मिलता है। लेकिन 2022 के चुनावी रंग में रंगी सत्ता दल इस बार मौके पर चौका मार देना चाहती है । मंगलवार को मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में राज्य स्थापना दिवस कार्यक्रम को लेकर बैठक हुई। बैठक में तय हुआ कि सभी जिला मुख्यालयों में भी सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए सादगीपूर्वक स्थापना दिवस मनाया जाएगा। इसमें प्रभारी मंत्री मुख्य अतिथि होंगे।


उत्तराखंड राज्य स्थापना दिवस की धूम ग्रीष्मकालीन राजधानी गैरसैंण (भराड़ीसैंण) में रहेगी। मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत नौ नवंबर को देहरादून पुलिस लाइन में मुख्य समारोह में शामिल होने के बाद गैरसैंण जाएंगे। गैरसैंण में पुलिस परेड और सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन होगा। आठ नवंबर को मुख्यमंत्री माउंटेन बाईक रैली का शुभारंभ करेंगे। राज्य के समस्त महाविद्यालयों में फ्री वाई-फाई कनेक्टिविटी कार्यक्रम का शुभारंभ डोईवाला से मुख्यमंत्री करेंगे। यहीं से वह डोबरा-चांटी पुल का लोकार्पण भी करेंगे। नौ नवंवबर को मुख्यमंत्री राज्य आंदोलन के शहीदों को शहीद स्मारक, देहरादून में श्रद्धांजलि देंगे। पुलिस लाइन में मुख्य आयोजन होगा, जिसमें राज्य स्थापना परेड’’ एवं विकास पुस्तिका का विमोचन किया जाएगा।


10 नवंबर को मुख्यमंत्री गैरसैंण में स्थानीय भ्रमण कर वीर चन्द्र सिंह गढ़वाली की दूधातोली स्थित समाधि में पुष्पांजलि अर्पित करेंगे। तत्पश्चात गैरसैंण (भराड़ीसैंण) में विभिन्न विभागों के लोकार्पण व शिलान्यास करेंगे। राज्य स्थापना समारोह के अवसर पर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों के लिए नोडल विभाग, सूचना एवं लोक सम्पर्क विभाग होगा। इसके लिए डॉ. मेहरबान सिंह बिष्ट, महानिदेशक सूचना को नामित किया गया है।