हरक सिंह रावत के फैसलों पर सत्याल ने फेरी तलवार, कई उपनल कर्मचारियों का रोजगार भी गया ।



उत्तराखंड कर्मकार कल्याण बोर्ड से शनिवार को पूर्व अध्यक्ष डा. हरक सिंह रावत के कार्यकाल में नियुक्त 40 कर्मचारियों की सेवा खत्म कर दी गई है। कर्मकार बोर्ड में गत दो सालों में उपनल और पीआरडी के जरिए 40 से अधिक कर्मचारी नियुक्त किए गए थे।

सूत्रों के मुताबिक बोर्ड के ढांचे में उक्त पद शामिल तो है। लेकिन इन्हें भरने के लिए वित्त विभाग से सहमति नहीं ली गई। इसके बजाय उपनल, पीआरडी से नाम मंगवा लिए गए। इससे बोर्ड पर अतिरिक्त वित्तीय भार पड़ रहा था। इन नियुक्तियों पर ऑडिट के दौरान सवाल उठने की आशंका को देखते हुए, नवनियुक्त बोर्ड ने इन सभी की नियुक्ति समाप्त करने का निर्णय लिया।

बोर्ड में समन्वयक के पद पर नियुक्त विजय सिंह चौहान को भी कार्यमुक्त कर दिया गया है। चौहान की तैनाती बतौर अध्यक्ष हरक सिंह रावत के रहने तक ही थी। हरक के हटने के बाद अब बोर्ड ने चौहान को भी कार्यमुक्त करने पर मुहर लगा दी है।


इसी के साथ अपर मुख्य कार्याधिकारी अशोक वाजपेई की सेवाएं भी समाप्त कर दी गई हैं। वाजपेई सेवानिवृत्त होने के बावजूद बोर्ड में जमे हुए थे। शनिवार को वाजपेई बोर्ड मुख्यालय में नजर तो आए लेकिन वो अपनी सीट पर नहीं बैठे। इससे पूर्व में बोर्ड सचिव दमयंती रावत को भी हटाया जा चुका है।

(BDO) Block Development Officer Vacancy Uttarakhand 2020
Uttarakhand Education Department- 658 Vacancies
अगस्तमुनि से रुद्रप्रयाग जा रही बोलेरो हादसे का शिकार, सड़क पर ही पलट गई गाड़ी ।
श्रीनगर गढ़वाल में यूटिलिटी चालक ने स्कूटी सवार को कुचल डाला, युवक की मौत ।
कर्णप्रयाग में बोलेरो वाहन दुर्घटनाग्रस्त, एक की मौत दूसरा गम्भीर रूप से घायल ।
कौड़ियाला-तोताघाटी में 15 मीटर सड़क ढही, मरम्मत का कार्य जारी ।
PMGSY RECRUITMENT 2020 UTTARAKHAND
पाकिस्तान की गोलाबारी में ऋषिकेश के राकेश डोभाल शहीद, परिवार का रो रोकर बुरा हाल ।
कॉलेज की छात्रा से किया शादी वादा फिर तीन साल बनाए शाररिक सम्बन्ध, अब शादी के लिए चाहिए पांच लाख दहेज ।
 वर्ग-4 (सहयोगी/गार्ड) के पदों पर भर्ती, 23 दिसम्बर अंतिम तारीख ।

यहां उत्तराखंड राज्य के बारे में विभन्न जानकारियां साँझा की जाती है। जिसमें नौकरी,अध्ययन,प्रमुख समाचार,पर्यटन, मन्दिर, पिछले वर्षों के परीक्षा प्रश्नपत्र, ऑनलाइन सहायता,पौराणिक कथाएं व रीति-रिवाज और गढ़वाली कविताएं इत्यादि सम्मिलित हैं। जो हर प्रकार से पाठकों के लिए उपयोगी है ।