भाजपा विधायक के सेक्स गाथा मामले की जांच कर रही टीम शनिवार देर शाम नैनीताल अतिथिगृह पहुंची। महिला के अधिवक्ता एसपी सिंह ने बताया कि अतिथिगृह का रजिस्टर खंगालने पर पता लगा कि महेश नेगी ने महिला को चार जून से पांच जून 2019 तक कमरा नंबर 24 में रखा हुआ था। पुलिस ने महिला की निशानदेही पर नक्शा नजीर बनाया। महिला ने अपने बयानों में कहा था कि विधायक ने पैमेंट चेक से किया है, ऐसे में जांच टीम ने रजिस्टर की एंट्री से सुनिश्चित किया कि 360 रुपये की पैमेंट चेक के माध्यम से की गई थी। 
इस मामले में महेश नेगी कहीं से भी बचते नजर नही आ रहे हैं। यही वजह है कि उनकी पत्नी ने भी इस मामले में मौन धारण किया हुआ है। सबसे बड़ा सवाल यह है कि जनता के चुने हुए लोग ही अगर इस प्रकार के कृत्यों में संलिप्त रहेंगे तो आम जनता के कानून का क्या डर रह जाएगा । 
इसके बाद पुलिस ने महिला के साथ कृष्ण कुमार भाखुनी के हल्द्वानी स्थित फार्महाउस का मौका मुआयना भी किया। इस दौरान भाखुनी के गार्ड ने महिला को पहचान लिया और गार्ड ने कबूला कि विधायक एक बार महिला को फार्म हाउस में लेकर आए थे। पुलिस ने गार्ड के बयान भी दर्ज कर कमरे का मौका मुआयना किया।
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि पीड़ित महिला के बताए गये सभी होटल में महेश नेगी की मौजूदगी पाई गई है। मसूरी, दिल्ली, देहरादून और अब नैनीताल और हल्द्वानी। इससे साफ होता है कि विधायक सहाब कितने शौकीन मिजाज थे । एक शादीशुदा महिला के लिए उनका इस प्रकार प्रेमालाप करना और उसके बाद मुकर जाना, कुछ न कुछ तो राज है। क्या जनप्रतिनिधि को पैसों के दम पर किसी के भी साथ इस प्रकार का व्यवहार करना चाहिए ? और अगर इतना ही शौक है तो अब अपनाने से इनकार क्यों ? विधायक भी बाल बच्चेदार आदमी हैं ऐसा तो नही है कि उनका विवाह ही नही हुआ । सत्ताधारी लोग ही इस प्रकार के कार्य करेंगे तो जनता से सही व्यवस्थाओं के पालन की उम्मीद रखना मूर्खता ही होगी।