विधायक सुरेंद्र सिंह पत्नी के यूँ अचानक चले जाने से बेहद आहत हुए, पत्नी के निधन के बाद वियोग में अन्न त्याग देने से विधायक की सेहत लगातार बिगड़ती चली गई। इस बीच कोरोना की गिरफ्त में आने से हालत गंभीर हो गई थी। दिल्ली के सरगंगाराम अस्पताल में गुरुवार तड़के करीब तीन बजे उन्होंने अंतिम सांस ली।


विधायक के निधन की खबर से भाजपाइयों में शोक की लहर दौड़ गई। हमेशा गांव गांव तक पहुंचने वाले विधायक के निधन का किसी को विश्वास ही नहीं हो रहा। विधायक अपनी विधानसभा क्षेत्र में काफी लोकप्रिय थे। विकास योजनाएं क्षेत्र तक पहुंचाने के साथ ही क्षेत्र के युवाओं को दिल्ली में रोजगार उपलब्ध कराने के लिए जाने जाते थे।

विधायक सुरेंद्र सिंह जीना (51) पुत्र प्रताप सिंह जीना का दिल्ली के सर गंगाराम अस्पताल में निधन हो गया। 15 दिन पूर्व पत्नी धरमा देवी (नेहा) के निधन के बाद से विधायक सुरेंद्र सिंह सदमे में थे। भोजन छोड़ देने से वह अस्वस्थ हो गए थे। इसी दरमियान वह कोरोना वायरस से संक्रमित भी हो गए। रिपोर्ट पाजिटिव आने पर उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

विधायक परिवार में सबसे छोटे थे। उनसे बड़े भाई रमेश व महेश जीना दिल्ली में कारोबारी हैं। विधायक के 18 तथा 20 वर्षीय दो पुत्र हैं। विधायक के करीबियों ने बताया कि पत्नी धरमा देवी के निधन के बाद से विधायक सदमे में आ गए थे। कई दिनों तक अन्न ग्रहण नहीं किया। इस वजह से भी सेहत बिगड़ती चली गई।