कोरोना के मामलों के बढ़ने के साथ ही करीब छह प्रदेश नाइट कर्फ्यू लगा चुके हैं। प्रदेश सरकार के स्तर पर इस मामले में अंतिम रूप से फैसला नहीं हुआ है। कारण यह भी है कि नाइट कर्फ्यू का उपयोग सरकार करती भी है तो वह मैदानी जिलों में ही कारगर साबित होगा।


उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण दर बढ़ने की आशंका से दबाव में आई सरकार विवाह सहित अन्य आयोजनों में अधिकतम लोगों की मौजूदगी के नियम में बदलाव कर सकती है। शनिवार को जिलाधिकारियों से बातचीत के बाद ही इस पर अंतिम फैसला होगा।


अभी तक आयोजनों में 200 लोगों की सीमा है और एमएचए की गाइडलाइन के मुताबिक राज्य सरकार इस सीमा को 100 तक कर सकती है। वहीं कोरोना मामलों के बढ़ने की स्थिति में अगर कंटेनमेंट जोन बनते हैं तो सरकार ऐसे क्षेत्रों में सख्ती बढ़ा सकती है।