गाजियाबाद से लापता हुई एक युवती ने दून आकर अपने प्रेमी से विवाह कर लिया। युवक व युवती दोनों अलग अलग संप्रदाय से हैं। युवती के स्वजनों की ओर से गुमशुदगी दर्ज कराने पर गाजियाबाद पुलिस उसकी तलाश में बुधवार को देहरादून पहुंची। युवती ने गाजियाबाद पुलिस के साथ जाने से मना कर दिया। युवती ने कहा कि वह अपने पति के साथ देहरादून में ही रहना चाहती है। इसके चलते दोनों समुदाय के लोग नगर मजिस्ट्रेट कार्यालय में आमने सामने आ गए।


देहरादून में रहने वाला एक युवक गाजियाबाद में नौकरी करता था। वहां उसका संपर्क दूसरे समुदाय की युवती से हुआ। दोनों के बीच प्रेम प्रसंग चला। दो वर्ष से दोनों के बीच शादी की बात चल रही थी। इस बात का पता दोनों के परिवारों चला। आरोप है कि इस बीच युवती के स्वजनों ने उसकी शादी कहीं और तय कर दी। इस पर युवती गाजियाबाद स्थित घर से भागी और दून पहुंची।


युवती ने तीन दिन पहले अपने प्रेमी से मंदिर में विवाह कर लिया और उसके घर पर रहने लगी। इसी बीच युवती के स्वजनों के दून पहुंचने की खबर युवक व युवती को चली। इसपर दोनों एक संगठन के साथ कलक्ट्रेट पहुंच गए। यहां यूपी पुलिस के दारोगा ने युवती को घर चलने को कहा। युवती के स्वजन भी उसपर घर चलने का दबाव बनाने लगे। युवती ने घर जाने से इनकार किया तो मौके पर दोनों पक्षों के बीच विवाद की स्थिति उत्पन्न हो गई।


इसी बीच संगठन के लोग युवक-युवती को लेकर सिटी मजिस्ट्रेट कुशुम चौहान के पास पहुंचे। उन्होंने पुलिस से मामले देखने के निर्देश दिए। इसके बाद यूपी पुलिस ने एसपी सिटी कार्यालय के बाहर युवती के बयान दर्ज किए।