उत्तराखंड में यौन उत्पीड़न को लेकर दिन प्रति दिन चिंतित करने वाली खबरें सामने आ रही हैं । यौन उत्पीड़न मामलों में नाबालिगों के सम्मिलित होने से स्थिति अधिक चिंताजनक हो गई है । बीते 24 घंटों में चार वर्ष की दो बच्चियों के साथ 9 व 12 वर्षीय दो बच्चों के द्वारा दुष्कर्म किए जाने के मामले प्रकाश में आये हैं। पहली घटना राजधानी के कैंट कोतवाली क्षेत्र की है। यहां चार साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म करने वाला खुद भी 12 साल का नाबालिग है। कैंट कोतवाली पुलिस ने इस मामले में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।


इंस्पेक्टर विद्याभूषण नेगी के अनुसार आइएमए के निकट सीआर कैंप में सैनिकों के परिवार रहते हैं। बीते 31 अक्टूबर को यहां रहनी वाली महिला अपनी चार साल की बच्ची को घर पर छोड़कर कहीं काम से गई थी। इसी दौरान पड़ोस में रहने वाला बच्चा उसके घर पर पहुंचा और बच्ची को कमरे में ले जाकर उसके साथ दुष्कर्म करने लगा। इस दौरान बच्ची की मां घर पहुंची और दरवाजा बंद होने पर उन्हें शक हुआ। उन्होंने दरवाजा खटखटाया तो काफी देर तक दरवाजा नहीं खुला। कुछ देर बाद जब दरवाजा खुला तो एक बच्चा तेजी से भाग गया। महिला ने जब बच्ची से पूछा तो बच्ची ने पूरी कहानी बताई। महिला ने इस संबंधी तहरीर पुलिस को दी, जिसके बाद पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया।


दूसरी घटना थाना सहसपुर क्षेत्र के एक गांव की है। यहां नौ साल के बच्चे द्वारा चार साल की बच्ची के साथ दुष्कर्म किए जाने का मामला प्रकाश में आया है। बच्ची की मां ने सोमवार देर सायं पुलिस को घटना की जानकारी दी। पुलिस के अनुसार महिला ने बताया कि सोमवार को घर के पास ही स्थित खेत में उसकी चार साल की बच्ची खेल रही थी, इसी दौरान नौ साल के बच्चे ने उसके साथ दुष्कर्म किया। पुलिस ने मामले की गंभीरता को देखते हुए जांच शुरू कर दी है। थाने के दारोगा नरेंद्र गहलावत के अनुसार मंगलवार को दोनों को मेडिकल के लिए देहरादून भेजा गया। इसके बाद पुलिस आगे की कार्रवाई करने जा रही है।