पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने चीता पुलिस को अपग्रेड करने के निर्देश दिए हैं। पुलिस महानिदेशक ने बताया कि आमजन की शिकायत, सड़क दुर्घटना, इमरजेंसी कॉल, आपदा व डायल 112 पर आने वाली सूचनाओं पर क्विक रिस्पांस के लिए चीता पुलिस को घटनास्थल पर भेजा जाता है। रात्रि गश्त के दौरान भी उन्हें हर प्रकार की स्थिति के लिए तैयार रहना होता है। इसलिए चीता पुलिस को आधुनिक उपकरणों से लैस करना अति आवश्यक हो गया है ।



अब चीता पुलिस को सिटी पेट्रोल यूनिट की तर्ज पर स्मार्ट बनाने की कवायद की जा रही है। उनकी कार्य क्षमता और दक्षता बढ़ाने के लिए बॉडी ऑन कैमरा, मल्टीपल बेल्ट, शॉर्ट रेंज आर्म्स आदि से लैस किया जाएगा। पुलिस महानिदेशक ने बताया कि प्रथम चरण में देहरादून के 120 पुरुष और 30 महिला आरक्षियों को उपकरणों के साथ एक माह का प्रशिक्षण दिया जाएगा।



पुलिस महानिदेशक ने प्रदेश के 86 निरीक्षकों के कार्यक्षेत्र परिवर्तित कर दिए हैं। ये निरीक्षक हाल ही में उप निरीक्षक से निरीक्षक के पद पर पदोन्नत किए गए हैं। पुलिस महानिदेशक अशोक कुमार ने पुलिस कर्मियों के स्थानांतरण के आदेश जारी किए गए हैं। जिसमें उन्होंने गढ़वाल और कुमाऊं परिक्षेत्र के साथ ही सीआइडी, सतर्कता, पुलिस मुख्यालय और साइबर क्राइम पुलिस थाने में नवीन तैनाती दी गई है।