उत्तराखंड में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर पर्वतीय राज्य में आम आदमी पार्टी अपनी सियासी जमीन तलाश रही है। जौनसार-बावर के खत बाना से जुड़े धोइरा निवासी उत्तराखंड पुलिस के पूर्व आइजी आइपीएस अनंतराम चौहान आम आदमी पार्टी से सियासी मैदान में उतर गए। पूर्व आइजी ने गुरुवार को दिल्ली में सीएम अरविद केजरीवाल और अन्य शीर्ष नेताओं से मुलाकात कर आम आदमी पार्टी ज्वाइन कर सबको चौंका दिया। उनके राजनीति में आने से पछवादून व जौनसार के तीन विधानसभा क्षेत्र सहसपुर, विकासनगर व चकराता में आम आदमी पार्टी को एक बड़ा चेहरा मिल गया है।


पूर्व आइजी ने कहा वह राजनीति में आकर जन सेवा करना चाहते हैं। वह पहाड़ के विकास के लिए काम करेंगे। उत्तराखंड में भाजपा व कांग्रेस की नीतियों से लोग तंग आ चुके हैं। प्रदेशवासी नई सोच व उमंग के साथ बदलाव चाहते हैं। जिसके लिए आम आदमी पार्टी से बेहतर कोई अन्य विकल्प नहीं है। देश की राजधानी दिल्ली में आप के सीएम केजरीवाल ने विकास के नए आयाम स्थापित किए हैं। जिससे राष्ट्रीय दलों की चूलें हिल गई हैं। आम आदमी पार्टी उत्तराखंड में होने वाले विधानसभा चुनाव में तीसरे मजबूत विकल्प के रूप में उभरेगी।


उत्तराखंड पुलिस के पूर्व आइजी रहे आइपीएस अनंतराम चौहान वर्ष 1989 में पुलिस विभाग में अफसर बने। इस दौरान वह उत्तर प्रदेश के मुरादाबाद, गाजियाबाद, अमरोहा, बिजनौर समेत कुछ अन्य शहरों में तैनात रहे। राज्य गठन के बाद उनकी पहली पोस्टिग उत्तराखंड के पूर्व सीएम एनडी तिवारी के मुख्य पुलिस सुरक्षा अधिकारी के पद पर हुई। इसके बाद वह एसपी देहात उधम सिंह नगर, एसपी हरिद्वार, एसपी चमोली व एसएसपी नैनीताल रहे। वर्ष 2014 में उनकी पदोन्नति डीआइजी नैनीताल के पद पर हुई। इसके बाद वह आइजी सीआइडी उत्तराखंड के पद पर रहे। अगस्त 2018 में वह पुलिस विभाग से रिटायर्ड हुए।