पिथौरागढ़ निवासी जयंत नोएडा के एक प्रबंधन संस्थान में पढ़ाई करता है, जहां उसके साथ पढ़ने वाली एक युवती से उसका कुछ समय से प्रेम प्रसंग चल रहा है। बताया गया कि युवती के पिता सुनील बेदी को जयंत नगरकोटी कतई पसंद नहीं था। पर पिता के शादी के लिए मना करने के बावजूद युवती मान नहीं रही थी। जिस कारण सुनील बेदी ने दौला निवासी जयंत को बेटी की जिंदगी से हटाने के लिए शूटरों को पांच लाख रुपये सुपारी दी थी।


दौला निवासी जयंत नगरकोटी पर बीती 21 नवंबर को अज्ञात लोगों ने जानलेवा हमला किया था। जिसके बाद कोतवाली पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर छानबीन शुरू की तो चौंकाने वाला खुलासा हुआ। पुलिस के अनुसार गुरुग्राम हरियाणा निवासी सुनील बेदी, नितिन कुमार पोसवाल, गाजियाबाद निवासी साज्जन कुमार और फैजाबाद निवासी अंकित पांडे पिथौरागढ़ के एक होटल में फर्जी आईडी के जरिए रह रहे थे। ये लोग एक माह से नियमित रूप से नगर में रहकर रेकी कर रहे थे। पुलिस ने मामले की तह तक जाने के लिए चार टीमें गठित कर गाजियाबाद, नोएडा, दिल्ली और फैजाबाद भेजी थी।


जांच में जुटी पुलिस गाजियाबाद निवासी सज्जन कुमार उर्फ साजन कुमार और हरियाणा के नितिन कुमार पोसवाल को गिरफ्तार कर पिथौरागढ़ ले आई। जबकि, अन्य दोनों आरोपियों सुनील बेदी और अंकित पांडे की खोजबीन जारी है।