सरकार की नीतियों से आम जनता परेशान है । एक माह में दो दो बार गैस के दामों में 100 की बढ़ोतरी कर वर्तमान केंद्र सरकार ने मध्यम वर्गीय लोगों के साथ छल किया है । आम जनता के साथ सब्सिडी के नाम पर भी धोखा हुआ है लेकिन लोग इसके आदी हो चुके हैं । सब्सिडी के नाम पर महज 16.16 रुपये ही खातों में वापस आ रहे हैं ।


दूसरी तरफ पेट्रोल व डीजल के दामों में भी सरकार की गलत नीतियों की वजह से कीमतें आसमान छू रहीं हैं । 30 रुपये प्रति लीटर लगाई गई एक्साईज ड्यूटी से आम जनता की जेब काट केंद्र सरकार आम नागरिक के साथ धोखा कर रही है । बता दें कि कोरोना काल में कच्चा तेल 01 रुपये प्रति बैरल से भी कम आ चुका था फिर भी केंद्र सरकार लोगों को गुमराह करने में सफल रही और तेल की कीमतें घटने की जगह बढ़ती गई ।


अब एक माह के भीतर रसोईगैस सिलिंडर की कीमतों में दो बार बढ़ोतरी हो चुकी है। बढ़ोतरी के बाद देहरादून में रसोईगैस सिलेंडर के दाम 713.00 रुपये व हल्द्वानी में रसोईगैस सिलिंडर के दाम 714.50 रुपये पहुंच गए हैं। यह पूरी राशि उपभोक्ताओं को अपनी जेब से देनी होगी। क्योंकि सरकार ने सिलिंडर में मिलने वाली सब्सिडी को समाप्त कर दिया है। उससे भी बड़ी चोरी यह हो रही है कि जब आप गैस बुक करवाते हैं तो सिलेंडर की कीमत 664 रुपये होती है लेकिन डिलीवरी के वक्त आपसे 713 रुपये गैस एजेंसी द्वारा वसूले जाते हैं ।