गौरतलब है कि राज्य में 10वीं व 12वीं के विद्यालयों को पूर्व में ही खोल दिया गया है। ऐसे में अगर विद्यालयों में शिक्षक ही नही होंगे तो बच्चे किस प्रकार अपनी पढ़ाई करेंगे । जखोली ब्लॉक अध्यक्ष प्रवीन जोशी ने असिस्टेंट प्रवक्ता व सहायक अतिथि शिक्षकों ने काउंसिलिंग के दस दिन बाद भी नियुक्ति पत्र जारी नहीं होने पर आक्रोश जताया। उन्होंने कहा कि अधिकारियों द्वारा अकारण देरी की जा रही है, जिससे छात्र-छात्राओं की पढ़ाई प्रभावित हो रही है ।


प्रवीन जोशी ने एक सार्वजनिक बयान में कहा कि हरिद्वार, टिहरी, चमोली, पौड़ी, चंपावत, उत्तरकाशी, अल्मोड़ा आदि जिलों में असिस्टेंट अतिथि शिक्षकों की नियुक्ति प्रक्रिया बीते नवंबर माह में पूरी हो चुकी है, लेकिन रुद्रप्रयाग जिले में अभी तक उन्हें नियुक्ति पत्र जारी नहीं हो पाए हैं। अकेले रुद्रप्रयाग जिले में प्रवक्ता के 23 व सहायक शिक्षक के 42 अतिथि शिक्षकों की काउंसलिंग बीते 4 व 5 दिसंबर को पूरी हो चुकी है, लेकिन विभाग द्वारा नियुक्ति पत्र जारी नहीं किए जा रहे हैं।


उन्होंने जारी बयान में कहा कि न्यायालय और शिक्षा सचिव द्वारा शिक्षक विहीन विद्यालयों में यथाशीघ्र अतिथि शिक्षकों को नियुक्ति के आदेश दो माह पूर्व दिए जा चुके हैं। हालांकि लॉकडाउन के कारण पहले ही छात्र-छात्राओं की पढ़ाई पूरी तरह से प्रभावित हो चुकी है। ऐसे में बोर्ड परीक्षार्थियों के पास परीक्षाओं की तैयारी के लिए कुछ ही समय बचा है। उन्होंने मुख्य शिक्षाधिकारी से नियुक्ति पत्र जल्द जारी करने की मांग की है।