नवल ने यह सफलता हासिल कर अभाव को आधार बनाकर प्रतियोगी परीक्षा से दूर रहने वालों को भी कठिन मेहनत से लक्ष्य प्राप्ति का संदेश दिया है। नवल बिष्ट नैनीताल जिला मुख्यालय के समीपवर्ती ग्राम भूमियाधार के रहने वाले हैं ।


नवल की प्रारंभिक शिक्षा भवाली के डिवीटो स्कूल व महर्षि विद्या मंदिर में जबकि 12वीं तक की शिक्ष गोविंद बल्लभ पंत इंटर कॉलेज भवाली से हासिल की। डीएसबी परिसर से स्नातक के बाद 2013 में कुमाऊं विवि के एसएसजे परिसर अल्मोड़ा से एलएलबी पास किया। तब से ही नवल जिला कोर्ट में प्रैक्टिस कर रहे हैं।


नवल निरंतर अध्ययनरत रहे । रात दाे-दो बजे तक पढ़ाई की। नवल के पिता आनंद बिष्ट की गांव में ही छोटी परचून की दुकान है, जबकि माता शारदा बिष्ट गृहिणी हैं। उनकी दो बड़ी बहनें हैं। नवल के अनुसार बचपन से ही उनका सपना जज बनकर पीड़ितों को न्याय व गरीबों की सेवा रहा है। इसीलिए उन्होंने परीक्षा पास करने के लिए खूब मेहनत की।