उत्तराखंड में नही रुक रहा तबादलों का दौर, फिर हुए 14 प्रशासनिक अधिकारियों में फेर बदल ।



पहले गढ़वाल मंडल और कुमाऊँ मंडल, सरकार लगातार प्रशासनिक अधिकारियों को एक जगह से दूसरी जगह भेजने पर लगी हुई है । अब उत्तराखंड सरकार ने 02 आईएएस और 12 आईपीएस अफसरों में फेरबदल किया है। यह आदेश बीते बुधवार को गृहमंत्रालय से जारी किए गये हैं।


कुमाऊं मंडल के आयुक्त अरिवंद ह्यांकी को डा. आरएस टोलिया उत्तराखंड प्रशासनिक अकादमी नैनीताल का निदेशक भी बनाया है। वहीं, अपर पुलिस महानिदेशक डा. पीवीके प्रसाद को पीएसी का अतिरिक्त जिम्मा दिया है। बुधवार को कार्मिक व गृह विभाग ने ये आदेश किए हैं। आईएएस ह्यांकी के पास मुख्यमंत्री के सचिव का भी जिम्मा है। रिटायर्ड आईएएस राजीव रौतेला से प्रशासनिक अकादमी नैनीताल का कार्य वापस लिया है। अपर सचिव बाल मयंक मिश्रा से राजस्व वापस ले लिया है। अब वे राजस्व परिषद में पदेन आयुक्त व निबंधक सहकारिता का कार्य देखेंगे।


दूसरी तरफ सचिव (गृह) ने पुलिस मुख्यालय के 12 आईपीएस अफसरों में फेरबदल किया है। एडीजी डा. प्रसाद अब सीआईडी के साथ-साथ पीएसी भी देखेंगे।आईजी अमित सिन्हा से फायर सर्विस हटा दूरसंचार का अतिरिक्त दायित्व दिया है। वे आईटीडीए,विधि विज्ञान प्रयोगशाला और विजिलेंस के निदेशक भी हैं। आईजी संजय गुंज्याल से पीएसी व एसडीआरएफ हटा दिया है।


आईजी एपी अशुंमान से दूरसंचार हटाते हुए साइबर अपराध एवं एसटीएफ और अपराध व कानून व्यवस्था का नया जिम्मा दिया है। इंटेलीजेंस व सुरक्षा वे पहले से देखते आ रहे हैं। आईजी पूरन सिंह रावत सीआईटी हटाकर प्रशिक्षण और डीआईजी रिधिम अग्रवाल से एसटीएफ हटा दूरसंचार, पीएंडएम व एसडीआरएफ का दायित्व सौंपा है।


डीआईजी नीरू गर्ग से एटीसी हरिद्वार हटा विजिलेंस व पीएसी, मुख्तार मोहसिन निदेशक पीटीसी नरेंद्रनगर हटाते हुए फायर सर्विस में भेजा गया है। बाध्य प्रतीक्षा में चल रहे डीआईजी नीलेश आनंद भरणे को कार्मिक, अपराध एवं कानून व्यवस्था, साइबर अपराध, एसटीएफ की महत्वपूर्ण जिम्मेदारी सौंपी गई है। जबकि डीआईजी नारायण सिंह नपलच्याल फायर सर्विस हटा सीआईडी और राजीव स्वरूप को निदेशक पीटीसी और एसपी अजय सिंह कार्मिक हटाकर एसटीएफ का दायित्व सौंपा है।

 हमारा "पहाड़ समीक्षा" समाचार मोबाइल एप्प प्राप्त करें ।



उत्तराखंड - ताजा समाचार

यहां उत्तराखंड राज्य के बारे में विभन्न जानकारियां साँझा की जाती है। जिसमें नौकरी,अध्ययन,प्रमुख समाचार,पर्यटन, मन्दिर, पिछले वर्षों के परीक्षा प्रश्नपत्र, ऑनलाइन सहायता,पौराणिक कथाएं व रीति-रिवाज और गढ़वाली कविताएं इत्यादि सम्मिलित हैं। जो हर प्रकार से पाठकों के लिए उपयोगी है ।