चोपता से लगे बनियाकुंड के जंगल में उत्तराखंड का पहला नेचर कैनोपी वॉक, प्रस्ताव हुआ तैयार ।

 

कर्नाटक की तस्वीर


नेचर कैनोपी वॉक की सहायता से पर्यटक जमीन से 20 फीट की ऊंचाई से प्राकृतिक सौंदर्य निहारने के साथ ही वन्य जीव व पक्षियों को देख सकेंगे। इको टूरिज्म को बढ़ावा देने के साथ ही पर्यटकों व आमजन को पर्यावरण व वन्य जीवों के संरक्षण के प्रति जागरूक करने के उद्देश्य से वन विभाग अब जंगलों को ईको फ्रेंडली बनाने की तैयारी में जुटा है। वन प्रभाग योजना तैयार कर जल्द शासन को भेजेगा।


आपको बता दें कि कर्नाटक राज्य के कुवेशी गांव में देश का पहला नेचर वाॅकवे बना है। यह जमीन से 30 फीट ऊंचा है और 240 मीटर लंबा है, जिस पर एक समय में 10 लोग चल सकते हैं। यहां पहुंचने वाले पर्यटक वन्य जीवों के साथ जंगल की खूबसूरती को निहारते हैं, जबकि जर्मनी के बबेरियन फॉरेस्ट नेशनल पार्क में दुनिया का सबसे बड़ा नेचर वॉकवे है, जो 1300 मीटर लंबा और जमीन से 25 मीटर ऊंचाई पर बना है।


वन प्रभाग की ओर से ऊखीमठ ब्लॉक के तुंगनाथ घाटी में स्थित बनियाकुंड से लगे जंगल में नेचर कैनोपी वॉक का निर्माण की योजना है। यहां वन क्षेत्र में बांज, बुरांश व अन्य प्रजाति के 60 से 70 वर्ष पुराने पेड़ों पर जमीन से 20 से 25 फीट ऊपर कैनोपी बनाई जाएगी। पहले चरण में यहां पेड़ों पर 80 से 100 मीटर लंबी व ढाई फीट चौड़ी कैनोपी तैयार की जाएगी, जो घुमावदार होगी और उस पर एक समय में पांच से छह पर्यटक चल सकेंगे। दूसरे चरण में वन क्षेत्र में कुछ स्थानों पर तीन से चार पेड़ों पर 5 से 10 मीटर लंबी वर्गाकार या तिकोनी कैनोपी तैयार की जाएगी, जिसका उपयोग व्यूं प्वाइंट के रूप में होगा।


 हमारा "पहाड़ समीक्षा" समाचार मोबाइल एप्प प्राप्त करें ।



उत्तराखंड - ताजा समाचार

यहां उत्तराखंड राज्य के बारे में विभन्न जानकारियां साँझा की जाती है। जिसमें नौकरी,अध्ययन,प्रमुख समाचार,पर्यटन, मन्दिर, पिछले वर्षों के परीक्षा प्रश्नपत्र, ऑनलाइन सहायता,पौराणिक कथाएं व रीति-रिवाज और गढ़वाली कविताएं इत्यादि सम्मिलित हैं। जो हर प्रकार से पाठकों के लिए उपयोगी है ।