इनसे मिलिए ये हैं उत्तराखंड के सर्पहरता, खास हुनर को देखते हुए वन विभाग ने दी नौकरी ।

 


महज 26 वर्ष की उम्र में वह हजारों सांप पकड़ चुके हैं। निमिष ने बताया कि बचपन में खेलते खेलते उन्होंने एक सांप पकड़ लिया था। उसे पकड़ने में न उन्हें झिझक महसूस हुई और न ही डर का एहसास । निमिष नैनीताल के तल्लीताल निवासी हैं और अब तक लगभग नौ हजार सर्प पकड़ चुके हैं ।


सांपों को पकड़ने का यही शौक अब उनके रोजगार का साधन बन गया है। लोग उन्हें अब सांप पकड़ने वाले युवक के रूप में जानने लगे हैं। वर्ष 2013 में उन्होंने इस हुनर के बलबूते वन विभाग के लिए काम करना शुरू कर दिया। इसके बाद वह सांपों के बारे में गहन जानकारी जुटाने में लग गए। वन विभाग में कार्य करते हुए करीब आठ हजार और उससे पूर्व एक हजार से भी अधिक सांप पकड़ चुके हैं। इनमें ब्राउन ट्रीनकेट, ग्रीन ट्रीनकेट, स्पेक्टिंकल कोबरा, किंग कोबरा, करैत के साथ ही पिट वाइपर, रॉक पिट वाइपर और ग्रीन पिट वाइपर जैसे जहरीले सांप भी शामिल हैं।


निमिष ने बताया कि नैनीताल और आसपास गांव में जब भी सांप दिखने की सूचना मिलती है तो वह तुरंत पहुंच जाते हैं । दो बार मौत से सामना होने के बाद भी निमिष का सांप पकड़ने का जुनून कम नहीं हुआ। निमिष ने बताया कि सांप पकड़ने के दौरान दो बार मौत से भी सामना कर चुके हैं। तीन वर्ष पूर्व किंग कोबरा को पकड़ने के दौरान सांप ने काट लिया था। इसके अलावा बीते वर्ष एक सितंबर को करैत ने उन्हें काट लिया था।


 हमारा "पहाड़ समीक्षा" समाचार मोबाइल एप्प प्राप्त करें ।



उत्तराखंड - ताजा समाचार

यहां उत्तराखंड राज्य के बारे में विभन्न जानकारियां साँझा की जाती है। जिसमें नौकरी,अध्ययन,प्रमुख समाचार,पर्यटन, मन्दिर, पिछले वर्षों के परीक्षा प्रश्नपत्र, ऑनलाइन सहायता,पौराणिक कथाएं व रीति-रिवाज और गढ़वाली कविताएं इत्यादि सम्मिलित हैं। जो हर प्रकार से पाठकों के लिए उपयोगी है ।