उत्तराखंड समाचार


उत्तराखंड में हर दिन महिलाओं की सुरक्षा को लेकर सवाल उठ रहे हैं लेकिन संकीर्ण सोच से महिलाओं को बचाएं भी तो कैसे? पुलिस हर घड़ी तो पहरे पर खड़ी नही रह सकती है और फिर जब रिश्ते में भाई लगने वाला ही अपराधी बन जाए तो मामला और भी सन्देहात्मक तथा पुलिस की निगरानी से दूर हो जाता है। हालाँकि घटना के बाद आरोपी का बचना नामुमकिन होता है लेकिन अब पुलिस के आगे सबसे बड़ा सवाल ये है कि लोगों की महिलाओं के प्रति संकीर्ण सोच कैसे बदली जाए।

नानकमत्ता क्षेत्र के एक गांव में तहेरे भाई ने सात साल की बहन से दुष्कर्म किया। पुलिस द्वारा प्राप्त जानकारी में पता चला है कि सात साल की चचेरी बहन को उसका भाई बहला फुसलाकर घर ले गया और उसने उसके साथ दुष्कर्म किया। रोते बिलखते यह आत बच्ची ने अपने माता पिता को बताई जसके बाद पिता ने पुलिस को जानकारी दी। थानाध्यक्ष ने बताया कि पीड़िता के मेडिकल में दुष्कर्म की पुष्टि हुई है।

आरोपी ने दुष्कर्म की बात किसी को बताने पर मासूम को जान से मारने की धमकी भी दी थी। थानाध्यक्ष कमलेश भट्ट ने बताया कि क्षेत्र के एक व्यक्ति ने शनिवार शाम कोतवाली में तहरीर दी। जिसके बाद पुलिस ने करवाई करते हुए आरोपी पर विभिन्न धाराओं में केस दर्ज कर आरोपी को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है।