बोर्ड परीक्षाएं हमेशा की तरह इस साल भी संपन्न कराई जाएंगी। लेकिन, कोरोना संक्रमण के चलते इस वर्ष पिछले साल से अधिक परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे। साथ ही प्रत्येक कक्षा में परीक्षार्थियों के बैठने की व्यवस्था 50 फीसदी कम कर दी गई हैं। इसलिए कक्षा-कक्ष भी बढ़ाएं जाएंगे। ताकि बच्चे सामाजिक दूरी के नियमों का पालन कर सकें। सरकार का प्रयास है कि इस वर्ष छात्रों को अपने घर के पास ही बोर्ड परीक्षा केंद्र मिल सके, लेकिन हर छात्र को परीक्षा केंद्र घर ले पास ही मिले, ऐसी कोई अनिवार्यता भी नही है।

सीबीएसई 10वीं और 12वीं की बोर्ड परीक्षाओं में इस साल परीक्षा केंद्रों की संख्या बढ़ाई जा रही है। यही नहीं कोरोना महामारी को ध्यान में रखते हुए इस साल सीटिंग व्यवस्था में भी 50% की कटौती की गई है। यानी पिछले साल तक एक कक्ष में जितेन परीक्षार्थी बैठते थे इस साल वहां आधी संख्या में परीक्षार्थी पेपर देंगे। इसके अलावा छात्रों को घर के नजदीक ही बोर्ड परीक्षा केंद्र मिल सकता है। जिले में इस साल कितने परीक्षा केंद्र बढ़ेंगे? सीबीएसई की तरफ से जल्द इसकी जानकारी शेयर की जाएगी।

पहले परीक्षाएं मार्च में होनी तय हुई थी लेकिन अब परीक्षाएं अप्रैल माह में सम्पन्न की जाएंगी। सामाजिक दूरी का पालन हो इसके लिए पिछले साल से अधिक परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे। इसके तहत छात्र-छात्राओं को घर के पास ही परीक्षा केंद्र मिल सकता है। बीबी भट्ट ने बताया कि परीक्षा केंद्रों की संख्या बढ़ेगी, इसके अलावा किसी भी चीज में कोई बदलाव नहीं होगा। परीक्षा व मूल्यांकन को समय पर कराने के लिए शिक्षकों की संख्या भी बढ़ाई जाएगी।