CBSE के बाद अब उत्तराखंड विद्यालय शिक्षा परिषद ने भी बोर्ड परीक्षाओं को लेकर परीक्षा कार्यक्रम की तिथियों का ऐलान कर दिया है। इस साल परीक्षाएं कोरोना महामारी के कारण देर से संचालित जरूर की जा रही हैं लेकिन इस वर्ष मूल्यांकन में छात्रों को किसी प्रकार की छूट नही दी जायेगी। उत्तराखंड बोर्ड सचिव डा. नीता तिवारी ने बुधवार को बताया कि केंद्रों का निर्धारण कर दिया गया है। परीक्षा को लेकर तैयारी चल रही है। इस वर्षकुल 1347 केंद्रों पर बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन किया जाएगा। इस वर्ष विद्यार्थियों के लिहाज से सीटों की संख्या दो गुनी की गई है, जिसकी वजह कोरोना से बचाव व रोकथाम है।

उत्तराखंड बोर्ड परीक्षा 2021 को लेकर जिले स्तर पर केंद्र निर्धारण के बाद केंद्रों के संबंध में अंतिम बैठक में राज्य स्तरीय परीक्षा केंद्र निर्धारण समिति ने 1347 केंद्रों पर परीक्षा के लिए मुहर लगा दी गई है। इस बार प्रदेश में 23 केंद्र बढ़े हैं। पिछली बार 1324 केंद्र बनाए गए थे। वहीं बोर्ड परीक्षा अप्रैल अंतिम सप्ताह में या फिर मई प्रथम सप्ताह में होने की संभावना है। इस वर्ष सर्वाधिक परीक्षार्थी हरिद्वार के 44 हजार 143 एवं सबसे कम चंपावत जिले में 8255 परीक्षार्थीं शामिल होंगे। एकल केंद्र 43 एवं मिश्रित 1302 केंद्र बनाए गए हैं।

उत्तराखंड हाईस्कूल एवं इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षा को लेकर राज्य स्तरीय परीक्षा केंद्र निर्धारण समिति ने जिले स्तर पर चयनित केंद्रों पर मुहर लगा दी है। इस बार प्रदेश में कुल 1347 केंद्रों पर दो लाख 72 हजार 313 परीक्षार्थी शामिल होंगे। इसमें एक लाख 48 हजार 888 विद्यार्थी हाइस्कूल के एवं एक लाख 23 हजार 485 विद्यार्थी इंटरमीडिएट के हें। 223 केंद्र संवेदनशील एवं 22 केंद्रों को अति संवेदनशील की श्रेणी में रखा गया है। सबसे अधिक परीक्षा केंद्र पौड़ी में 166 एवं सबसे कम चंपावत में 40 हैं।

बोर्ड परीक्षार्थी अपनी तैयारियां करनी शुरू कर दें। पिछले वर्ष कोरोना की वजह से बोर्ड परीक्षाएं प्रभावित रही थी जिसका फायदा बोर्ड परीक्षार्थीयों को उत्तीर्ण अंक या अन्य विषयों पर आधारित अंकों के आधार पर ददिए गये थे। लेकिन इस साल ऐसा कोई भी लाभ बोर्ड परीक्षार्थियों को नही दिया जाएगा। मई माह में हर हाल में परीक्षाएं सम्पन्न होनी तय हैं और इन परीक्षाओं का परिणाम जुलाई में घोषित कर दिया जाएगा।