उत्तराखंड राज्य को धीरे धीरे उत्तर प्रदेश बनाने की कोशिश की जा रही है। राज्य में बढ़ते अपराध इस ओर साफ इशारा कर रहें हैं। एक तरफ उत्तर प्रदेश की भाजपा सरकार है जिसनें अपराधों पर कुछ हर तक काबू पाया है और दूसरी तरफ उत्तराखंड की भाजपा सरकार है जिसके सत्ता सम्भलने के बाद राज्य में अपराध बढ़ते ही जा रहे हैं। उत्तराखंड में हद दिन यौन शोषण जैसी घटनाएं आम हो गई हैं, हर दिन चोरी की वारदाते हो रही हैं, चरस-गांजे का व्यापार चरम पर पहुंच गया है और अब सरेआम हत्या जैसे अपराध से राज्य की महान कृतियों को कलंकित किया जा रहा है।

राज्य की राजधानी में ये सारी घटनाएं इतनी आम हो गई हैं कि कानून व्यवस्था कठघरे में आ गई है। चोरी होती है तो चोर पकड़े नही जाते हैं, हत्याकांड के आरोपी महीनों तक पुलिस को पहुंच से बाहर घूम रहे होते हैं। नशे के कारोबारी गली-गली तक नशा पहुंचाने में मस्त हैं। लेकिन सरकार को केवल चुनाव कैसे जीतना है इस पर ध्यान केंद्रित है। राज्य में पिछले चार सालों में अपराध में बहुत तेजी से इजाफा हुआ है लेकिन मुख्य धारा की मीडिया का इस ओर कोई ध्यान नही है। कुछ बाहरी लोग राज्य की छवि को धूमिल करने में लगे हुए लेकिन पक्ष व विपक्ष खामोश बैठा हुआ है।
ताजा मामला राजधानी देहरादून का है। नेहरू कालोनी थाना क्षेत्र में प्रॉपर्टी डीलर राजू बॉक्सर उर्फ राजेन्द्र पुंडीर की दो बदमाशों ने गोली मारकर हत्या कर दी। बॉक्सर को दो गोली लगी, जिससे उसकी मौके पर ही मौत हो गई। हालांकि राजू का रिकॉर्ड खुद में ठीक नही है वह स्वयं भी आपराधिक प्रवृति का था और उसके ही किसी परिचित ने उसको ठिकाने लगा दिया। लेकिन खुले आम हुई इस वारदात ने राज्य में कानून व्यवस्था पर सवाल खड़े कर दिए हैं।

जानकारी के मुताबिक राजू बॉक्सर अक्सर अपने दोस्त सावेज के माता मंदिर स्थित प्लाट में रात के समय पार्टी करता था। बुधवार देर रात करीब 11 बजे भी वह अपने कुछ दोस्तों के साथ वहां बैठा हुआ था। कुछ देर बाद वहां पर स्कूटर पर सवार दो युवक आए और उन्होंने एक के बाद एक दो गोली राजू बॉक्सर पर दाग दी। बॉक्सर की मौके पर ही मौत हो गई। सूचना मिलते ही एसपी सिटी सरिता डोभाल, थाना पुलिस और एसओजी इंस्पेक्टर ऐश्वर्या पाल समेत अन्य पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंच गए। एसपी सिटी ने बताया कि मामले में जांच की जा रही है। गोली चलाने वालों की तलाश की जा रही है।

राजू बॉक्सर सेना में खेल कोटे में भर्ती हुआ था। नेपाल निवासी उसका एक दोस्त भी सेना में बॉक्सर था। एक बार बॉक्सिंग मैच के दौरान उसका हाथ टूट गया था। इसके बाद वह सेना से भाग आया था। 2008 में सेना से आने के बाद वह प्रापर्टी डीलिंग के कारोबार में आ गया था। राजू पर 11 से ज्यादा मुकदमे दर्ज थे। इनमें हत्या और डकैती जैसे जघन्य अपराध भी शामिल हैं। उस पर आरोप था कि उसने वर्ष 2014 में नैशविला रोड पर दो पुलिसकर्मियों को चाकू मारकर घायल कर दिया था। इसके बाद राजू बॉक्सर पर पांच हजार रुपये का इनाम घोषित किया गया था। हालांकि बाद में वह गिरफ्तार भी हुआ था और उसे जमानत मिल गई थी।

पुलिस को सूचना देने वेले बॉक्सर के दोस्तों का कहना है कि बॉक्सर का मंगलवार को कुछ युवकों से झगड़ा हुआ था। बताया जा रहा है कि इन्हीं युवकों ने बॉक्सर पर गोली चलाई है। बॉक्सर का इन युवकों से पुराना विवाद चल रहा था। आरोपियों में एक युवक का नाम बिहारीगढ़ निवासी विनय बताया जा रहा है।