भारत में कोरोना वैक्सीन के नाम पर साइबर ठग लोगों को तरह तरह के झांसे दे रहे हैं। गौरतलब है कि राज्य में भी कोरोना वैक्सीन का ट्रायल चल रहा है। लेकिन शुरू में 93 हजार स्वास्थ्य कर्मियों को ही वैक्सीन दिया जाना है । ऐसे में लोगों को सही जानकारी का न होना ही इन ठगों को सुनहरा मौका दिखता है। इस बीच कोरोना वैक्सीन के पंजीकरण के नाम पर ठगी करने वाला गिरोह सक्रिय हो गया है।

देश के वैज्ञानिकों ने कोविड वैक्सीन विकसित करने में सफलता पाई है। भारत में कोरोना वायरस के खिलाफ दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू होने जा रहा है। फ्रंट लाइन वारियर्स को शुरुआत में वैक्सीन लगाने की तैयारी की जा रही है। अभी राज्य की राजधानी में कोरोना वैक्सीन ट्रायल चल रहा है। इसके बाद उत्तराखंड के सभी जिलों का कोरोना वैक्सीन इंतजार भी खत्म हो जाएगा ।

आपको बता दें कि जिलों में अभी दवा का टीकाकरण शुरू नही हुआ है। लेकिन साइबर ठग लोगों को वैक्सीन के नाम पर ठगने की कोशिश में जुट गए हैं। साइबर सेल में इस तरह के तीन मामले खटीमा और जसपुर से सामने आ चुके हैं। पुलिस और साइबर सेल ठगों से लोगों को जागरूक रहने की सलाह दे रहा है। प्रदेश पुलिस ने लोगों को सतर्कता बरतने की सलाह दी है।