सावधन! उत्तराखंड में बाबा बनकर घूम रहे ढोंगियों से बचे और अपने अपने बच्चे-बच्चियों को भी बचाएं। बाबाओं के काले करतूतों की ये खबर आपके होश उड़ाने वाली है। खबर गरमपानी बेतालघाट ब्लॉक के रतौड़ा गांव की है जहां शुक्रवार को कुछ ऐसा हुआ कि क्षेत्रके सबके तोते उड़ गये। नाबालिक बच्चे की किस्मत अच्छी थी कि उसके साथ कुछ अनहोनी होने से पहले ही किसी ने उसकी आवाज सुन ली और बच्चा सुरक्षित मिल पाया।

गरमपानी बेतालघाट ब्लॉक के रतौड़ा गांव शुक्रवार की रात 2.30 बजे गांव के मंदिर में रहे दो बाबाओं ने गांव के एक 12 वर्षीय बच्चे का अपहरण किया और गांव से दूर हल्सों के देवी मन्दिर के एक कमरे में कैद कर लिया। दोनों ने कमरे के बाहर से ताला भी लगा दिया। बच्चे का भाग्य ही कहिंगे कि इतना कुछ होने के बाद भी वह सुरक्षित अपने परिजनों के बीच में लौट आया।

दोनों बाबाओं ने बच्चे का अपहरण शुक्रवार रात को किया और उसको मंदिर के कमरे में बन्द करके बाहर से ताला मार दिया। बच्चे की किस्मत अच्छी थी कि अगली सुबह यानी शनिवार को वहां से विनोद शर्मा नाम का एक मजदूर काम के लिए जा रहा था और उसने दरवाजे को खटखटाने की आवाज सुन ली। उसने पास जाकर पूछा तो अंदर से बच्चे ने उसको बताया कि मुझे बाहर निकालो। विनोद शर्मा ने ये सूचना आसपास के ग्रामीणों को दी।

ग्रामीणों ने मंदिर का ताला तोड़कर बच्चे को सुरक्षित बरामद कर लिया। घटना के बाद ग्रामीणों में भारी आक्रोश है। सूचना मिलते ही पट्टी पटवारी प्रवीन हंयाकी मौके पर पहुंचे। दोनों बाबाओं को हिरासत में ले लिया गया है। इस खबर के बाद से क्षेत्र के लोगों का बाबाओं से भरोसा उठ गया है। पहाड़ समीक्षा आप सबको भी जागरूक रहने की सलाह देता है।