आपको बता दें कि मनीष सिसोदिया ने उत्तराखंड दौरे पर दिल्ली विकास मॉडल का मुद्दा उठाया था । उनके विकास के दावे सुनकर शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने मनीष की चुनौती को स्वीकार करते हुए कहा कि वह खुली बहस के लिए तैयार हैं । यह देखते हुए दिल्ली के उपमुख्यमंत्री सिसोदिया के चार जनवरी को देहरादून में बहस के लिए तारीख तय की थी जिससे अब मदन कौशिक बचते नजर आ रहे हैं।



उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव लड़ने का ऐलान कर चुकी आम आदमी पार्टी भाजपा पर सियासी हमले कर रही है। पिछले महीने देहरादून आए आप नेता और दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने राज्य सरकार पर विकास के मोर्चे पर नाकाम होने का आरोप लगाया था। उत्तराखंड और दिल्ली के मॉडल पर खुली बहस की चुनौती दी थी। इसे शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने स्वीकार किया था। सिसोदिया चार जनवरी को दून के दौरे पर आ रहे हैं। उन्होंने मंत्री मदन कौशिक को चार जनवरी को देहरादून में खुली बहस करने के लिए आमंत्रित किया है।



अब मदन कौशिक इस बहस से बचना चाहते है इसलिए बेतुके की बयानबाजी कर रहे हैं । राज्य का मुख्यमंत्री राज्य में एम्स जैसे संस्थान होने के बाबजूद दिल्ली में अपना इलाज करवाता है फिर भी मदन कौशिक कहते हैं किवह 06 जनवरी को दिल्ली में हुए कार्यों का निरक्षण करेंगे। इतना ही नही शनिवार को रुड़की में एक निजी कार्यक्रम में पहुंचे शहरी विकास मंत्री मदन कौशिक ने दिल्ली सरकार पर निशान साधा। वह बोले, दिल्ली में स्कूल-अस्पताल की हालत बदहाल है। लेकिन यह कहते हुए मदन कौशिक भूल गये कि उत्तराखंड के सरकारी स्कूलों की क्या हालत है, स्वाथ्य सेवाओं का क्या हाल है । मदन कौशिक ने कहा कि मनीष सिसोदिया के चार जनवरी को खुली बहस की तारीख तय करने से कुछ नहीं होता। तारीख वह तय करेंगे और दिल्ली जाकर उत्तराखंड के मॉडल पर खुली बहस करेंगे।